fbpx Press "Enter" to skip to content

जी चैनलों का स्वामित्व सुभाष चंद्र के हाथ से निकलेगा

  • कर्ज चुकाने की मजबूरी में बेचना पड़ रहा है काफी शेयर
  • अभी किसी चीनी कंपनी को शेयर बेचने की चर्चा
  • बाद में कई अन्य कारोबार में भी हाथ आजमाये
  • वर्ष 1992 में शुरु किया थी जी टेलीविजन
वी शिवकुमार

मुंबईः जी चैनलों के मालिक भविष्य में सुभाष चंद्र नहीं रहेंगे। दरअसल कर्ज

चुकाने की जरूरतों को पूरा करने के लिए जी इंटरटेनमेंट के 16.5 प्रतिशत

शेयर बेचने की तैयारी चल रही है। इन शेयरों के बिक जाने के बाद राज्यसभा

सांसद सुभाष चंद्र इस टीवी चैनल कंपनी के स्वामित्व की स्थिति मे नहीं रह

जाएंगे। इस सौदे के पूरा होते ही जी इंटरटेनमेंट पर सुभाष चंद्र की कंपनी का

अधिकार मात्र पांच प्रतिशत शेयरों का रह जाएगा। ऐसी स्थिति में वह

स्वाभाविक तौर पर इसके मालिक नहीं रह पायेंगे।

याद रहे के भारतीय टेलीविजन की दुनिया को नई ऊंचाई तक पहुंचान में

इस जी टेलीविजन का बड़ा योगदान रहा है। उस दौर की तमाम प्रतिकूल

परिस्थितियों के बाद भी सुभाष चंद्र ने इसे वर्ष 1992 में चालू किया था। इस

क्रम में कंपनी ने टेलीविजन की दुनिया में लगातार तरक्की की। टेलीविजन

की दुनिया में खुद को स्थापित कर लेने के बाद सुभाष चंद्र ने अन्य कारोबारों

में भी हाथ आजमाने की पहल की थी।

इसके तहत कंपनी ने इंफ्रास्ट्रक्चर, पैकेजिंग, शिक्षा के साथ साथ वित्त

पोषण, टेक्नोलॉजी और खनिज के कारोबार में भी हाथ आजमाया। इस

नई दुनिया में सुभाष चंद्र की कंपनी बेहतर उपलब्धि नहीं हासिल कर पायी।

इससे कंपनी पर वित्तीय बोझ लगातार बढ़ता ही चला गया।

जी चैनलों के मालिक कर्ज तले दबे हुए

इस वजह से कंपनी पर कर्ज चुकाने का बोझ भी बढ़ता गया। कंपनी ने इससे

पूर्व भी 11 प्रतिशत शेयर बेचकर 4224 करोड़ रुपये जुटाये थे। लेकिन वह

पैसा भी कर्ज की अदायगी में पूरा बोझ कम नहीं कर पाया। चर्चा है कि

इस कंपनी को किसी चीनी कंपनी को बेचने की बात चीत चल रही है।

शेयरों की बिक्री के बाद जिस कंपनी के पास इसके सबसे अधिक शेयर

होंगे, स्वाभाविक तौर पर वह सुभाष चंद्र के बदले अपने किसी प्रतिनिधि

को यहां नियुक्त करेगा। अभी शेयरो की खरीद में जिस कंपनी का नाम

सबसे अधिक सामने आया है वह ओएफआइ ग्लोबल चाइना फंड और

उसकी सहयोगी कंपनियां हैं। इस कंपनी के नाम से ही इसके चीनी कंपनी

होने का पता चलता है। लेकिन इस कंपनी में किन लोगों का पैसा लगा है,

इसका खुलासा कंपनी द्वारा शेयरों की खरीद के बाद हो पायेगा।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat