fbpx Press "Enter" to skip to content

मोदी के सम्बोधन में कोरोना से जुड़े ज्वलंत मुद्दे गायब: येचुरी

नयी दिल्लीः मोदी के सम्बोधन में देश के जरूरी मुद्दे गायब होने की शिकायत माकपा

नेता सीताराम येचुरी ने की है। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र

मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन की आलोचना करते हुए कहा है कि इस संबोधन में कोरोना

वायरस (कोविड-19) से सबंधित ज्वलंत मुद्दों के बारे में कोई बात नहीं की गई और 20

लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज के बारे में भी कोई खुलासा नहीं किया गया है। श्री

येचुरी ने श्री मोदी के मंगलवार रात के संबोधन पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा

कि प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में इस बात का कोई जिक्र नहीं किया कि देश के गरीबों

मजदूरों के लिए उनके पास क्या ठोस योजनाएं है जो रोज सड़कों पर पैदल जा रहे हैं।

उन्होंने अपने घरों की ओर लौटने वालों को ट्रेन से मुफ्त में घर पहुंचाने के बारे में एक शब्द

नहीं बोला और न हीं उन लोगों के राशन-पानी के बारे में कोई बात कही, जो भूखे हैं।

माकपा नेता ने कहा कि मोदी ने अपने आर्थिक पैकेज में पहले से वित्त मंत्रालय तथा

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा घोषित अन्य पैकेज और आर्थिक सहायताओं को भी समेट

लिया है, इसलिए जब तक इस पैकेज का विस्तृत विवरण नहीं मिलता है, तब तक कुछ

कहा नहीं जा सकता है।

मोदी के सम्बोधन का आर्थिक पैकेज समझना होगा

उन्होंने यह भी कहा कि सरकार को चाहिए था कि गरीबों और मजदूरों को मुफ्त अनाज

देते ताकि वे भूखे न मरे पर उनके संबोधन में ऐसी कोई घोषणा नहीं की गई। श्री येचुरी ने

कहा कि देश की जनता उनसे यह उम्मीद लगाए बैठी थी कि वह कुछ ऐसी घोषणा करेंगे

जिनमें कुछ ठोस बातें होंगी।उन्होंने आत्मनिर्भर भारत की बात की जो हमारे संविधान के

मूलभूत सिद्धांतों में शामिल है। हम इतने वर्षों से जो आगे बढ़े हैं, उसमें आत्मनिर्भर होने

की बात शामिल है इसलिए श्री मोदी ने जो बात कही है, उनमें नया कुछ क्या है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat