fbpx Press "Enter" to skip to content

बोकारो जिला में धूमधाम से मनाया गया विश्व आदिवासी दिवस

बोकारो: बोकारो जिला में विभिन्न राजनीति दल एवं संगठनों ने धूमधाम से विश्व

आदिवासी दिवस मनाया। सभी दल व संगठनों ने सरकार के द्वारा कोविड 19 निर्देश का

पालन करते हुए कार्यक्रम किया। शहर के सेक्टर 12 स्थित सरना स्थल में विश्व

आदिवासी दिवस के अवसर पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की

शुरुआत वृक्षारोपण कर किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता समिति के सचिव संजू सामंत

ने किया। मौके पर श्री समानता ने कहा कि हमारा जीवन संघर्षमय है। आज हमें फिर एक

बार अपने अधिकार के लिए संघर्ष करना होगा। उन्होंने कहा कि झारखंड की पहचान

आदिवासी परंपरा, कला-संस्कृति और गीत-नृत्य जिनको आज दुनिया भर में जाना जाता

है। इस दौरान महली उरांव, बलदेव उरांव, नारायण, जगन्नाथ, सुभाष पाहन, रंजीत,

एतवा, लखन, शंकर लिंडा, पालो उरांव, शनचरिया, सीमा, शांति, बेरसो, पूनम, सीमा

सामंत सहित अन्य उपस्थित थे।

अधिकार के लिए संघर्ष करना होगा: बिरूवा

सेक्टर 12 स्थित जयपाल नगर में जनअधिकार मंच की ओर शारीरिक दूरी का पालन

करते हुए विश्व आदिवासी दिवस मनाया गया। मौके पर सामाजिक कार्यकर्ता रेंगो बिरुवा

ने कहा कि हम आदिवासियों के लिए 9 अगस्त का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। सदियों से हम

आदिवासियों पर हो रहे अत्याचार, शोषण, उत्पीड़न एवं आदिवासीयत पर संकट से बचाव

के लिए चिंतन करना है। श्री बिरुवा ने कहा आज हमें खुशियां मनाना नहीं है बल्कि

आदिवासियों के साथ हो रहे जुल्म व जल, जंगल, जमीन, पर्यावरण सुरक्षा, संसाधन तथा

पूरे प्राकृतिक के साथ छेड़छाड़ एवं प्रताड़ना का प्रतिवाद करना है। उन्होंने कहा आज

आदिवासियों की जनसंख्या पूरे विश्व में लगभग 37 करोड़ है। जिसमें हमारा भारत देश में

ही सिर्फ लगभग दस करोड है। इस दौरान टुटीशन पुर्ती, झरीलाल पात्रा, शंकर, डंगा

हेम्ब्रम, सहित अन्य उपस्थित थे।

बोकारो के दिशोम जाहेर गढ़ में मनाया गया विश्व आदिवासी दिवस

विश्व आदिवासी दिवस दिशोम जाहेर सेवा ट्रस्ट बोकारो की ओर से दिशोम जाहेर गढ़

सेक्टर 4 पर मनाया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता विनोद कुमार हेम्ब्रम व संचालन

महावीर मरांडी ने किया। शिक्षा सचिव महावीर सोरेन ने कहा कि 9 अगस्त को विश्व

आदिवासी दिवस मनाने के लिए संयुक्त संघ द्वारा 1982 के सम्मलेन में आदिवासियों

का संवर्धन और पर्यावरण संरक्षण के लिए दिसंबर 1994 में पारित किया गया। ट्रस्ट के

सलाहकार वारिश मुर्मू ने कहा कि विश्व आदिवासी दिवस हम आदिवासियांे के लिए

वरदान है, यह संकल्प लेने का दिन है, अपने अधिकार एवं हक के लिए। वहीं वरिष्ठ

सलाहकार दिनु हेम्ब्रम ने कहा कि सभी आदिवासियों को एकजुट रहने की आवश्यकता है

तभी हम अपने आंदोलन को अमली जामा पहना सकेंगे। इस दौरान मुख्य रूप से नायके

जगरनाथ मुर्मू, मनोज कुमार हेम्ब्रम, सोहराय सोरेन, अजय मरांडी, मनीलाल हेम्ब्रम,

नुनीबला सोरेन, सपना सोरेन, महादेव मरांडी, जगमोहन बेसरा, सुमित सोरेन आदि

शामिल थे।

बिरसा मुंडा चौक पर मनाया गया विश्व आदिवासी दिवस

कांगे्रस पार्टी की ओर विश्व आदिवासी दिवस शहर के नयामोड़ स्थित बिरसा मंुडा चौक

में मनाया। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला कांगे्रस कमेटी के अध्यक्ष मंजूर अंसारी ने

की। इस दौरान सभी लोगों ने भगवान बिरसा मुंडा के प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

जिलाध्यक्ष मंजूर अंसारी ने कहा कि आज पूरे विश्व में विश्व आदिवासी दिवस मनाया जा

रहा है। यह झारखंड के लोगों के लिए गर्व की बात है। चास नगर निगम के पूर्व उपाध्यक्ष

एवं कांगे्रस नेता अब्दुल वाहिद खान ने कहा कि जल, जंगल और जमीन के संरक्षण में

अपने अमूल्य योगदान देने वाले सभी आदिवासी वीरों को शत शत नमन है। मौके बीडी

मिश्रा, छोटा मंजूर, मनोज रॉय, जमील अख्तर, शाद बाबू, नाजिर अंसारी के अलावा काफी

संख्या में कांग्रेसी नेता एवं कार्यकर्ता मौजूद थे।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from लाइफ स्टाइलMore posts in लाइफ स्टाइल »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!