फिनलैंड के पीएम नहीं उठाते सरकारी सुविधाओं का लाभ

विमान स्वयं उड़ाने के साथ-साथ किराया भी खुद ही देते है

Spread the love

सरकारी खर्च पर ऐशो-आराम करना और पूरे ठाठ-बाट से यात्राएं करना दुनिया भर के राष्ट्राध्यक्षों के लिए नई बात नहीं है। राष्ट्रप्रमुखों को कई सुविधाएं तो मिलती ही हैं और यात्राओं के दौरान एक बड़ा कारवां भी उनके साथ चलता है। भारत में तो राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री क्या, मुख्यमंत्रियों और उनके मंत्रियों का भी बहुत ठाठ होता है। लेकिन इसी दुनिया में कुछ अपवाद भी हैं। फिनलैंड के प्रधानमंत्री जुहा सिपिला को ही ले लीजिए। 55 साल के सिपिला ना केवल खुद अपना विमान उड़ाते हैं, बल्कि इसके पैसे भी चुकाते हैं। साल 2015 में प्रधानमंत्री का पद संभालने वाले सिपिला राजनीति में आने से पहले आईटी के क्षेत्र का एक बड़ा नाम थे। उनका काफी लंबा-चौड़ा कारोबार था और इसमें उन्होंने अरबों रुपये कमाए। सिपिला खुद भी एक इंजिनियर थे। उनकी पहचान एक मृदुभाषी और ईमानदार इंसान की है। आधिकारिक यात्राओं के दौरान किराये पर निजी जेट विमान लेकर सिपिला ना केवल उन्हें खुद ही उड़ाते हैं, बल्कि विमान को किराये पर लेने का पैसा भी खुद अपनी ही जेब से देते हैं। सिपिला अबतक ऐसी 19 आधिकारिक यात्राओं पर जा चुके हैं।
2016 में सिपिला खुद 5,000 किलोमीटर तक विमान उड़ाकर फिनलैंड से मंगोलिया की राजधानी उलन बतोर पहुंचे। इस यात्रा के दौरान उन्होंने 6-7 यात्री क्षमता वाला सेसना 525 बिजनस जेट विमान उड़ाया था। इसके बाद 1,400 किलोमीटर तक और विमान चलाकर वह यूरोपियन यूनियन के नेताओं से मिलने पहुंचे। ऐसा नहीं कि सिपिला ने हमेशा खुद विमान उड़ाकर और खुद ही इसका पैसा चुकाकर सरकारी खर्च बचाने की मिसाल पेश की हो। नवंबर 2015 में गठबंधन की बातचीत खत्म होने के बाद प्रधानमंत्री सिपिला को उत्तरी फिनलैंड में स्थित अपने शहर ऑलू वापस लौटना था। यह बैठक प्रस्तावित समय पर खत्म ना होकर देर तक चली, तो सिपिला की विमान मिस हो गई। सिपिला ने इस बार निजी विमान ऑर्डर नहीं किया, बल्कि वह एक ऐम्बुलेंस विमान में बैठ गए। विमान के अंदर यात्रियों के बैठने के लिए बची आखिरी सीट मिना मारिया को दे दी। एक घंटे की यह यात्रा उन्होंने पायलट के शौचालय की सीट पर बैठकर पूरी की।

You might also like More from author

Comments are closed.

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE