fbpx Press "Enter" to skip to content

लॉकडाउन बनी महिलाओं की समस्या, घरेलू हिंसा में हुई बढ़ोतरी

नई दिल्ली : लॉकडाउन भारत में कोरोना संक्रमण को खत्म करने के लिए लागू किया

गया है। पर इसका बुरा असर कुछ महिलाओं की जिंदगी पर ज्यादा हो रहा है, जहां

महिलाओं को घरेलू हिंसा का शिकार होना पड़ रहा है। 23 मार्च से 30 मार्च तक की राष्ट्रीय

महिला आयोग की रिपोर्ट के अनुसार कुल 58 महिलाओं की शिकायतें सिर्फ ई-मेल से

मिलीं है, जहां कई ऐसी भी महिलाएं भी शामिल होंगी जो पत्र लिखकर शिकायतें भेजना

चाहती होगी जिन्हे ई-मेल करना तक नहीं आता होगा। आयोग द्वारा प्राप्त ई-मेल में

महिलाओं को पति द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है। आयोग के अनुसार महिलाओं की

शिकायतें सबसे ज्यादा उत्तर भारत खासकर पंजाब से आया हैं। आयोग की अध्यक्ष रेखा

शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि लॉकडाउन के कारण घर बैठे पतियों के पास कोई

कार्य ना होने की वजह वे अपना गुस्सा पत्नी पर उतारने लगे है। जो छोटी बातों से बढ़कर

प्रताड़ना और हिंसा का रूप ले रही है। जहां महिलाओं पर हाथ भी उठाए जा रहे है और उन्हें

बहुत ज्यादा मारा-पीटा भी जा रहा है। इसमें सिर्फ पतियों द्वारा प्रताड़ना के मामले नहीं

बल्कि सास-ससुर के सहयोग से भी महिलाएं प्रताड़ित की जा रही है।

पंजाब में सबसे ज्यादा प्रताड़ना की रिपोर्ट

आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि पुरुष घर बैठे निराश हो रहे हैं और महिलाओं पर

कुंठा निकाल रहे हैं। बता दें कि यह शिकायते सबसे ज्यादा पंजाब से मिली है जहां घरेलू

हिंसा की मामले दिन पर दिन पनपने लगी है। जिसमें कई ऐसे भी केस शामिल होने की

संभावना है जो निचले तबके की महिलाओं का होगा, जिन्हें ई-मेल करना तक नही आता

होगा और डाकघर बंद होने की वजह से पत्र लिख नहीं पा रही है। बता दें कि एक

शिकायतकर्ता महिला आयोग के कार्यालय तक पहुंच गया जिसने अपने दामाद पर आरोप

लगाते हुए आयोग को बताया कि उनके दामाद ने उनकी बेटी को अपने घर पर बेरहमी से

पीटा है। और लॉकडाउन लागू होने के बाद से उनकी बेटी को खाना तक नहीं दिया है।

मामले पर आयोग ने त्वरित जांच का आदेश दिया है जो राजस्थान के सीकर जिले का है।

हालांकि अभी मामले की पूर्ण रूप से पुष्टि नहीं हो पाई है। पर मीडिया के संपर्क में आने पर

शिकायतकर्ता ने नाम ना छापने की गुजारिश कि है चूंकि उनका दामाद एक शिक्षक है।

आयोग की गुजारिश

रेखा शर्मा ने बताया कि पोस्ट के माध्यम से शिकायतों की प्राप्ती के बाद कुल शिकायतों

की संख्या में बढ़ोत्तरी हो सकती है। हालांकि अभी शिकायतों का असल आंकड़ा आना

बाकी है। जहां रेखा शर्मा ने ऐसे कृत्य करने वाले लोगो से गुजारिश भी की है कि बेवजह

गुस्सा करके अपनी निजी जिंदगी को बर्बाद ना करे। बेवजह की घरेलू हिंसा से अपने ही

खानदान को बेईज्जत कर रहे है। जांच मे दोषी पाये जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

4 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat