fbpx Press "Enter" to skip to content

EMI में कोई बदलाव होगा या नहीं! RBI लेगा फैसला 6 अगस्त को

नई दिल्ली : EMI में आमजनों को कोई विशेष छुट मिलेगी या नहीं ये सब भारतीय

रिजर्व बैंक (RBI) की अगले हफ्ते होने वाली बैठक पर निर्भर करता है. भारतीय रिजर्व

बैंक (Reserve Bank of India) के गवर्नर की अगुवाई वाली मौद्रिक नीति समिति की

तीन दिन की बैठक चार अगस्त को शुरू होकर 6 अगस्त को खत्म होगी, जब बैठक में

हुए जरुरी निर्णयों की घोषणा भी कर दी जाएगी. हालाँकि अनुमान यह भी लगाया जा

रहा है कि ब्याज दरों में बदलाव की कोई उम्मीद नहीं है. एक रिपोर्ट में अनुमान में

बताया गया है कि मौद्रिक नीति समिति (MPC) की बैठक में ब्याज दरें स्थिर रखने पर

फैसला हो सकता है. ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद लगा रहे लोगों को आम लोगों

को इस बार इंतजार करना पड़ सकता है. लिहाजा EMI में कोई बदलाव नहीं होगा.

एसबीआई रिसर्च (SBI Research) की रिपोर्ट-इकोरैप में कहा गया है कि हमारा

मानना है कि अगस्त में रिजर्व बैंक दरों में कटौती नहीं करेगा.

EMI भरना एक समस्या

EMI में कुछ हद तक दी गई छुट भी आमजनों के लिए काफी नहीं पड़ रही, चूँकि

इसकी मुख्य वजह लॉकडाउन रही है. जिससे ना सिर्फ अर्थव्यवस्था बल्कि लोगों के

व्यक्तिगत हालात पर भी असर पड़ा है. कई नौकरियां चली गई और बेरोजगारी चरम

पर पहुँच गई है. एमपीसी की बैठक में इस बात पर चर्चा होगी कि मौजूदा परिस्थतियों

में वित्तीय स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए और क्या गैर-परंपरागत उपाय किए जा

सकते हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि फरवरी से रेपो दर में 1.15 प्रतिशत की कटौती हो

चुकी है. बैंकों ने ग्राहकों को नए कर्ज पर इसमें से 0.72 प्रतिशत कटौती का लाभ दिया

है. कुछ बड़े बैंकों ने तो 0.85 प्रतिशत तक का लाभ स्थानांतरित किया है. हालाँकि

डगमगाई अर्थव्यवस्था से जहां ग्राहक परेशान हुए है वहीं बैंकों की भी काफी परिस्थिति

मनमाफिक दिखाई नहीं पड़ रही. रिपोर्ट कहती है कि इसकी वजह यह है रिजर्व बैंक

ने नीतिगत उद्देश्यों को पाने के लिए आगे बढ़कर तरलता को एक माध्यम के रूप में

इस्तेमाल किया. रिपोर्ट में कहा गया है कि लॉकडाउन के दौरान लोगों ने वित्तीय

परिसंपत्तियां रखने को प्राथमिकता दी है. इससे देश में वित्तीय बचत को प्रोत्साहन

मिला है. रिपोर्ट कहती है हमारा अनुमान है कि 2020-21 में वित्तीय बचत में इजाफा

होगा. इसकी एक वजह लोगों द्वारा एहतियाती उपाय के तहत बचत करना भी है.

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from बयानMore posts in बयान »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!