fbpx Press "Enter" to skip to content

शिवरात्रि की शाम बड़ा हादसा होते होते बचा, पहाड़ी मंदिर परिसर मे आग

  • बाबा का सिंगार चल रहा था घटना के वक्त

  • सूखे पत्तों की वजह से नीचे से ऊपर गयी आग

  • दमकल के पहुंचने के बाद किसी तरह काबू पाया जा सका

राष्ट्रीय खबर

राची: शिवरात्रि की शाम उस समय पहाड़ी मंदिर में हड़कंप मच गया जब मंदिर के पीछे

तरफ पहाड़ी के नीचे से झाड़ियों में आग लग गई और यह यार लगातार बढ़ती जा रही थी।

यह घटना आज देर शाम की है। इस वक्त भी वहां अनेक भक्त आ जा रहे थे।

वीडियो में देखिये घटना का नजारा

वैसे तो अत्यंत महत्वपूर्ण धार्मिक पर्व का दिन होने की वजह से आज सुबह से ही पहाड़ी

मंदिर परिसर में भक्तों की भीड़ लगी हुई थी। वैसे जब आग लगी उस वक्त सुबह के

मुकाबले लोगों की कम भीड़ थी। इस वजह से आग की घटना से होने वाली भगदड़ जैसी

भी कोई स्थिति उत्पन्न नहीं हुई।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक यह आग पहाड़ी मंदिर की तलहटी में अचानक लगी थी। पेड़ों

के सूखे पत्तों की वजह से यह आग तेजी से नीचे से ऊपर की तरफ बढ़ती चली गयी।

घटना की गंभीरता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि आग लगातार बढ़ रही थी।

इस दौरान मंदिर में भगवान शिव का सिंगार चल रहा था। पहाड़ी मंदिर प्रबंधक कमेटी ने

बड़ी ही समझदारी से काम लेते हुए घटना की जानकारी जिला प्रशासन को देने के साथ

अग्निशमन विभाग को भी दी। इसके अलावा प्रबंधक कमेटी के सदस्य द्वारा आग पर

खुद भी काबू पाने की कोशिश की जाने लगी। हवा के तेज बहाव के कारण आग पर शुरू में

काबू पाने में काफी दिक्कत हो रही थी। आम नागरिक एवं पहाड़ी मंदिर के आसपास के

दुकानदार समूह द्वारा आग पर खुद ही काबू पाने की कोशिश की जा रही थी लेकिन यह

पर्याप्त नहीं लग रहा था।

शिवरात्रि की शाम के इस हादसे ने उजागर की खामियां

इसी दौरान मौके पर दमकल की गाड़ियां भी पहुंची लेकिन आग पहाड़ी पर लगा हुआ था

जिसके कारण दमकल के द्वारा आग पर पानी का बौछार नहीं किया जा सका। स्थानीय

लोग और आयोजन कमेटी के सदस्यों कि कोशिश करने के बाद ही आग पर काबू पाया

गया।

मंदिर प्रशासन का उस समय हाथ पांव फूल गए जब प्रारंभ में आग पर काबू पाने में

समस्या हो रही थी क्योंकि इस दौरान पहाड़ी मंदिर पर सैकड़ों लोगों की मौजूद थी। लेकिन

समय पर आग पर काबू पा लिया गया जिस कारण बड़ी घटना टल गई। आग लगने के

कारणों के बारे में स्थानीय दुकानदारों का कहना है कि पहाड़ी मंदिर के चारों ओर और

असामाजिक तत्वों का जमावड़ा लगा रहता है इनके द्वारा लगातार नशा सेवन किया

जाता है जिसके कारण हो सकता है की आग लग गई होगी। दूसरी तरफ लोगों ने यह भी

माना कि पहाड़ी मंदिर के नीचे के हिस्सों में दुकानें होने की वजह से भी दमकल के पहुंच

जाने के बाद भी उससे आग बूझाने के काम में दिक्कत आयी।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from धर्मMore posts in धर्म »
More from पर्यटन और यात्राMore posts in पर्यटन और यात्रा »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: