fbpx Press "Enter" to skip to content

जंगली भालू के बच्चे को बांध रखा पालतू बनाने के लिए

लापुंगः जंगली भालू के बच्चे को कुछ ग्रामीणों ने जबरन बांध रखा है। उनकी दलील है कि

वे इस भालू को पालेंगे और पालतू बनायेंगे। यह घटना लापुंग के पबीरा पाट पहाड़ की है।

वहां जंगल से गुजरते ग्रामीणों की नजर जंगली भालू के इस बच्चे पर पड़ी तो वे इसे अपने

साथ ले आये हैं। पांच दिनों से यह बच्चा वहां बंधा होने के बाद भी वन विभाग को इसकी

खबर नहीं है।

सूत्रों के अनुसार होली के बाद होली शिकार के दिन पबीरा डांड़ टोली के ग्रामीणों ने मरकुस

मुंडा के नेतृत्व में परंपरागत रूप से शिकार करने के लिए शिकारी जाल बिछाया था।

जिसमें जंगली सूअर तो नहीं फंसा लेकिन एक भालू का बच्चा उस जाल में फंस गया।

फिलहाल भालू के बच्चे को रस्सी में बांधकर काफी मशक्कत के बाद डांड़टोली लाया गया।

फिलहाल जंगली भालू को मरकुस मुंडा के घर में रखा गया है। इस शावक को पकड़ने में

मरकुस मुंडा के अलावे मंगरा मुंडा, सोमा मुंडा, सनिका मुंडा, खादू मुंडा,समेत कई लोगों ने

महत्वपूर्ण भूमिका निभाई । ग्रामीणों ने कहा कि इसे खुद ही पालेंगे और पालतू बनाएंगे।

जंगली भालू को पकड़ना जुर्म है कार्रवाई होगी

उधर वन विभाग के रेंजर ने कहा कि जंगली भालू को पकड़ कर रखना कानूनन अपराध

है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में उन्हें कोई जानकारी नहीं थी । अखबार के संवाददाता के

द्वारा जब उन्हें जानकारी मिली तो अब गांव जाकर जानकारी की सत्यता की जांच करेंगे।

उधर थाना प्रभारी जगलाल मुंडा ने कहा कि जंगली भालू को ग्रामीण वन विभाग को सुपुर्द

करें अन्यथा उन पर कार्रवाई की जा सकती है। दूसरी तरफ जानकार यह मानते हैं कि

अपने बच्चे की तलाश में मादा भालू वैसे ही काफी आक्रामक हो जाती है। वह अब भी

अपने बच्चे की तलाश कर रही है। ऐसी स्थिति में अगर उसका सामना किसी ग्रामीण से

हो जाता है तो वह निश्चित तौर पर आक्रामक होगी और यह हादसा जानलेवा भी हो

सकती है। झारखंड सहित कई राज्यों में ऐसा अक्सर होता रहता है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »
More from रांचीMore posts in रांची »

Be First to Comment

Leave a Reply