Press "Enter" to skip to content

आशिक संग मिल पति की हत्या कराने वाले पत्नी गिरफ्तार




हंसडीहाः आशिक संग मिल पति का हत्याकांड में दो साल बाद कांड का उद्भेदन मामले में डीआईजी सुदर्शन मंडल ने हंसडीहा थाना प्रभारी को सम्मानित किया। उत्कृष्ट कार्य करने और नाट्कीय ढ़ंग से आरोपी पत्नी और उसके आशिक की गिरफ्तार को लेकर थाना प्रभारी आकृष्ट अमन को डीआईजी ने नगदी पुरस्कार से सम्मानित किया। केस के अनुसंधानकर्त्ता थाना प्रभारी ने पति के हत्यारा पत्नी और उसके आशिक तक जमीन खरीदार बनकर नाट्कीय तरीके से नगर थाना क्षेत्र के शिवपहाड़ के बाउरीपाड़ा से धर दबोचने में कामयाब हुई।




डीआईजी ने अपराध गोष्ठी की समीक्षा करते हुए हुए बीते 22 दिसंबर को थाना क्षेत्र के चर्चित हत्याकांड में खुलासा को लेकर थाना प्रभारी को विशेष ध्यान आकृष्ट कराया था। पुलिस मामले में 8 जून 2019 को दर्ज कांड संख्या 54/19 में भादवी की धारा 341, 323,120 बी, 307 के तहत मामला दर्ज की थी। बाद में मामले को हत्याकांड भादवी की धारा 302 के धारा में परिवर्तित की थी।

मामले में डीआईजी के निर्देश पर पुलिस छानबीन करते हुए हत्या के कारणों और हत्यारिन पत्नि और उसके आशिक तक पहुंची। क्या था मामला बीते वर्ष 2019 में हंसडीहा थाना क्षेत्र में जीवन नामक व्यक्ति की चाकू गोंद की हत्या हुई थी। जीवन की हत्या उसकी पत्नी और उसके आशिक गौरव ने चाकू गोंद उसके घर में कर दी थी।

आशिक संग हत्या के बाद आरोपी पुलिस की गिरफ्त से फरार

आशिक संग हत्या के बाद आरोपी पुलिस की गिरफ्त से फरार चल रहा था। पहले से बनाये प्री प्लान के बाद हत्या के दिन के पहले ही मृतक की पत्नी अपने मायके दुमका चली गई थी। हत्यारा गौरव ने पहले जीवन के पत्नी को अपने प्रेम जाल में फंसाया। फिर दोनों ने एक साथ जीने मरने की कसमें भी खाई और इसी बीच रास्ते का रोड़ा बन रहे पति जीवन को रास्ते से हटाने का चक्रव्यूह रच डाला। फिर गौरव ने साजिश के तहत धीरे धीरे जीवन से दोस्ती की दोस्ती इतनी बढ़ गई की। गौरव कभी-कभी जीवन के घर में रुककर रात भी काट लिया करता था।




हत्या के दिन जीवन घर में अकेला था और गौरव भी इसी दिन का इंतजार कर रहा था। उस दिन गौरव जीवन से मिला और रात में जीवन के ही घर पर रुकने की बात जीवन से कही। फिर दोनों घर आये और खाना खाने के साथ साथ शराब भी सेवन किया। नशे की हालत में जीवन का हत्या का प्रयास किया।

आस-पास के लोगों को देख हत्यारा गौरव फरार होने में कामयाब रहा। जहां इलाज के दौरान पुलिस को बयान देने के तीन बाद जीवन ने पटना में दम तोड़ दिया। पुलिस मामला दर्ज कर छानबीन में जुट गई थी। इसी बीच जीवन की पत्नी आशा देवी और उसके प्रेमी ने शादी कर दुमका में अपने मायके के समीप किराए के मकान में रह रही थी। आरोपी हत्यारा आशिक दुमका में अर्बन स्टोर में काम कर जीवनयापन कर रहा था।

 



More from HomeMore posts in Home »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: