fbpx Press "Enter" to skip to content

दुर्गापूजा को लेकर बांग्लादेश में सार्वजनिक उत्सव का दौर




  • प्रमुख फिल्म अभिनेत्री शाहनूर शामिल हुई

  • कोरोना की वजह से लागू हैं कई प्रतिबंध

  • बरदेश्वरी मंदिर में वस्त्र वितरण संपन्न

अमीनूल हक

ढाकाः दुर्गापूजा को लेकर बांग्लादेश में अब सार्वजनिक उत्सव का माहौल छा गया है। यह

जान लेना प्रासंगिक है कि यह हिंदुओँ का त्योहार होने के बाद भी इस दुर्गापूजा के मौके पर

हर धर्म के लोग उत्सव में शामिल होते हैं। यह प्रथा काफी प्राचीन काल से चली आ रही है।

वीडियो में देखिये वस्त्र वितरण और अभिनेत्री शाहनूर ने क्या कहा

वैसे भी वर्तमान प्रधानमंत्री शेख हसीना ने बार बार यह स्पष्ट किया है कि धर्म सभी की

अलग अलग हो सकते हैं लेकिन त्योहार तो पूरे देश का होता है। लिहाजा दुर्गापूजा को

लेकर अभी पूरे देश में त्योहार का माहौल बन गया है।

आज पंचमी के दिन ढाका के वरदेश्वरी मंदिर में पहले से चली आ रही परंपरा के मुताबिक

ही वस्त्र वितरण का कार्यक्रम था। लेकिन वहां पहुंचने के बाद भीड़ देखकर अवाक होने

लायक स्थिति बनी। हजारों की संख्या में गरीब यहां नया कपड़ा लेने कतार में लगे थे। यह

भी जान लीजिए कि दुर्गापूजा को लेकर यहां होने वाले आयोजन में कोई धार्मिक भेदभाव

नहीं किया जाता है। कोरोना के प्रावधान यहां लागू थे और मौजूद हरेक को मास्क पहनने

की बार बार हिदायत दी जा रही है। यहां की मंदिर कमेटी के अध्यक्ष चित्तरंजन दास ने

कहा कि यह आयोजन मानव धर्म को शीर्ष पर रखकर आयोजित किया जाता है।

दुर्गापूजा को लेकर समाज के हर तबके में है उत्साह

अंदर जाने पर जानकारी मिली थी कि अत्यधिक भीड़ की दूसरी वजह इस कार्यक्रम में

शाहनूर का शामिल होना भी है। वह देश की प्रसिद्ध नायिका हैं। बांग्लादेश के अलावा वह

कोलकाता में भी कई फिल्मों में काम कर चुकी हैं। अनेक उत्साही लोग, जिन्हें कपड़ा नहीं

लेना था, वे भी शाहनूर को देखने के लिए वहां एकत्रित हो गये थे।

इस वस्त्र वितरण समारोह के बाद शाहनूर ने राष्ट्रीय खबर से भी बात चीत की। उन्होंने

कहा कि यहां की तो परंपरा वही है जो प्रधानमंत्री शेख हसीना कई बार बता चुकी हैं। धर्म

सभी के अलग अलग हो सकते हैं लेकिन त्योहार सभी का बराबर का है। सारा देश अब

इसी सामाजिक नियम का पालन करता है। यहां के लोग दिल से इसे मानते हैं। इसी वजह

से दुर्गापूजा के मौके पर सारा देश उत्सव के माहौल में डूब जाता है।

ढाकेश्वरी मंदिर में भी श्रद्धालुओँ की काफी भीड़ रही

ढाका के विश्व प्रसिद्ध ढाकेश्वरी मंदिर में मास्क बांटने आये राहा काजी ने कहा कि

शारदीय दुर्गोत्सव भी यहां के हिंदु और मुसलमानों के मिलन का त्योहार है। इस बार

कोरोना से इसमें थोड़ी कमी अवश्य आयी है। फिर भी लोगों के दिलों में उमंग और उत्साह

एक जैसा ही है। उन्होंने भी सभी से यह अपील की कि स्वास्थ्य संबंधी जिन प्रावधानों के

पालन का निर्देश दिया गया है, उसे कोई भूले नहीं। इस बार कोरोना की वजह से राष्ट्रीय

स्तर पर भी पूजा कमेटी ने पहले से ही कई फैसले लिये हैं। इसके तहत रात नौ बजे के बाद

सारे मंदिर बंद कर दिये जाएंगे। इस बार बांग्लादेश में 30,213 दुर्गापूजा का आयोजन हो

रहा है। अकेले ढाका में 254 पूजा पंडाल है। कोरोना की वजह से पूरे देश में एक हजार पूजा

आयोजन कम हुए हैं। लेकिन इसके बीच भी चट्टग्राम में सबसे अधिक 4142 पूजा का

आयोजन किया जा रहा है।

[subscribe2]



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अजब गजबMore posts in अजब गजब »
More from इतिहासMore posts in इतिहास »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from धर्मMore posts in धर्म »
More from लाइफ स्टाइलMore posts in लाइफ स्टाइल »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

2 Comments

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: