fbpx Press "Enter" to skip to content

अपनी सीमा से पश्चिम बंगाल लौटा रहा है झारखंड से गये लोगों को

संवाददाता

रांचीः अपनी सीमा पर पश्चिम बंगाल अपने ही लोगों को वापस लौटा रहा है।  बंगाल के

लोगों को लेकर गयी बसों को सवारी सहित वापस भेज दिया गया है। पश्चिम बंगाल अपने

यहां झारखंड से भेेजे गये लोगों को स्वीकार नहीं कर रहा है। केंद्र सरकार के फैसले के

अनुरुप एक स्थान पर फंसे लोगों को उनके गृह जिला भेजने की  कार्रवाई के तहत झारखंड

की पहल का यह नतीजा आज सामने आया है। मिली जानकारी के मुताबिक कई इलाकों

से गयी बसों को पश्चिम बंगाल की सीमा पर से लौटा दिया गया है। पश्चिम बंगाल के

अधिकारियों का तर्क है कि इस बारे में उनके यहां अब तक कोई नीति निर्धारित नहीं की

गयी है। इसलिए बिना राज्य सरकार से कोई आदेश आये वे झारखंड से आये लोगों को

स्वीकार भी नहीं करेंगे।  केंद्र की अनुमति प्राप्त होते ही झारखंड ने अपने यहां के लोगों को

विभिन्न राज्यों से वापस बुलाने का काम युद्ध स्तर पर प्रारंभ कर दिया है। इसके तहत

कल देर रात ही हैदराबाद से आयी ट्रेन में झारखंड के 12 सौ  लोग पहुंचे हैं। इनके आने का

इंतजाम खुद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने हटिया स्टेशन जाकर देखा था। हटिया पहुंचने के

बाद पहले से की गयी व्यवस्था के तहत इन सारे लोगों की जांच कर सारा विवरण दर्ज कर

उन्हें अलग अलग सैनेटाइज किये हुए बसों से उनके इलाकों में भेज दिया गया है।

अपनी सीमा से बंगाल ने दो जिलों के लोगों को लौटाया

फाइल फोटो

मिली जानकारी के मुताबिक आज सबसे पहले वहां के लिए गिरिडीह से लोगों को रवाना

किया गया था। इन्हें लेकर गयी बस को आसनसोल के पास रोका गया और उन्हें अनुमति

नहीं होने की दलील देते हुए वापस लौटा दिया गया। इन मजदूरों को ले जाने वाली बसों को

गिरिडीह के उपायुक्त ने हरी झंडी दिखाकर आज सुबह ही रवाना किया था। सूत्रों की मानें

तो इसी तरह जामताड़ा से भेजी गयी एक बस को भी लौटा दिया गया है। पश्चिम बंगाल

की सीमा पर तैनात राज्य के अधिकारी मुख्यालय से इस बारे में कोई निर्देश प्राप्त नहीं

होने की दलील दे रहे हैं। वैसे इन घटनाक्रमों ने पश्चिम बंगाल के उन मजदूरों को सबसे

ज्यादा हैरान किया है, जो झारखंड के विभिन्न इलाकों से अपने गांव लौटने के लिए इतने

दिनों के लॉक डाउन के बाद खुशी खुशी रवाना हुए थे। दूसरी तरफ राजस्थान के कोटा से

पश्चिम बंगाल के छात्रों का दल अपनी सीमा में यानी बंगाल में पहुंच चुका है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from गिरिडीहMore posts in गिरिडीह »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from पर्यटन और यात्राMore posts in पर्यटन और यात्रा »
More from राज काजMore posts in राज काज »

4 Comments

Leave a Reply