fbpx Press "Enter" to skip to content

पाण्डु नदी के पुनरोद्धार से मिलेगी जल प्लावन से निजात


औरैयाः पाण्डु नदी को फिर से सुधारा जायेगा। इससे बाढ़ से प्रभावित अनेक गावों के लोगों को राहत मिलेगी।

उत्तर प्रदेश में पाण्डु नदी समेत 16 नदियों के पुनरोद्धार के योगी सरकार के फैसले से जल प्लावन के

शिकार करीब 36 गांवों के लोगों ने राहत की सांस ली है। आधिकारिक सूत्रों ने शनिवार को बताया कि

सरकार ने सभी जिलाधिकारियों को एक पत्र जारी कर कहा है कि कोविड-19 के चलते अन्य प्रान्तों/शहरों से

लौट कर गांवों मे आये मजदूरों के जॉब कार्ड बनवाकर उन्हें महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार

गारण्टी योजना के तहत 20 अप्रैल के बाद रोजगार देने की प्रक्रिया शुरू करने के साथ ही सिंचाई,

जल संरक्षण एवं व्यक्तिगत लाभर्थी सम्बंधित कार्यो की परियोजनाओं को प्राथमिकता प्रदान करते

हुए सोशल डिस्टेंसिंग का बेहतर ढंग से प्रयोग करते हुए कार्य कराया जा सकता है। पत्र में प्रदेश की

जिन 16 नदियों के पुनरोद्धार के लिये शामिल किया है उनमें औरैया के बिधूना क्षेत्र के ग्राम उम्मेद

पुर्वा से निकलने वाली पाण्डु नदी को भी शामिल किया है।

पाण्डु नदी में बारिश एवं नहर का पानी

छोड़े के  बाद होने वाले जल प्लावन से लगभग तीन दर्जन गांव प्रभावित होते हैं। सूत्रों ने बताया कि

इन गांवों में तिलकपुरफार्म, अजीतपुर्वा, परसादीपुर्वा, कैथावा, पुर्वा हिन्दू, रायपुर, विधीपुर्वा,

सिंहपुर्वा, नन्दपुर, अकूबपुर, उमरीपुर, कोठी, लालपुर, धरमंगदपुर, अमृतपुर, कसहरी, बराहार,

धनीपुर्वा सूनीखेड़ा, गैली, तिरकों, बर्रूकुलासर, भदौरा एवं सिरयावा की हजारों एकड़ फसल को

न केवल प्रभावित होती है बल्कि जल भराव के चलते धान व गेहूं की फसलें पूरी तरह से नष्ट हो जाती है।

ग्रामीणों के मुताबिक इसका मुख्य कारण अंग्रेजों के समय की बनी सायफन का नवीनीकरण और

सफाई न होना है। इन गांवों के किसान जल प्लावन के समय दर्जनों बार आन्दोलन भी कर चुके है।

पाण्डु नदी के पुनरोद्धार की जानकारी होने पर उक्त ग्रामों के किसानों अर्जुन सिंह, गजेन्द्र सिंह,

अरविन्द दोहरे, अशोक कुमार, रामनरेश सिंह, शिवशंकर सिंह, सिद्धगोपाल दीक्षित आदि ने

प्रसन्नता व्यक्त करते हुये कहा कि इस समस्या के समाधान के लिये बहुत लम्बे समय से लड़ाई

लड़ी जा रही थी। पाण्डु नदी के पुनरोद्धार से उन लोगों को जल प्लावन से निजात मिलेगी

जिससे हमारी फसलें बर्बाद नहीं होगी। गौरतलब है कि पिछले साल जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने

पाण्डु नदी के पुनरोद्धार के लिये एक कार्ययोजना भी बनायी थी जिसमें आसपास स्थित तालाबों को

रिचार्ज पॉन्ड बनाने एवं किनारों पर वृक्षारोपण करने को लेकर विस्तृत चर्चा कर पांडु नदी के

पुनरुद्धार के लिये सिंचाई खण्ड औरैया को नोडल विभाग नामित किया गया था। इस संबंध में

निर्देश दिए थे कि वह इस योजना का पुन: निरीक्षण कर एस्टीमेट तैयार करें जिससे कि शासन

को भेजकर बजट मंगाया जा सके। पांडु नदी बिधूना विकासखंड की 12 ग्राम पंचायतों से होकर

गुजरती हुई कानपुर देहात को जाती है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from उत्तरप्रदेशMore posts in उत्तरप्रदेश »
More from कामMore posts in काम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!