fbpx Press "Enter" to skip to content

पानी और सफाई के अभाव में नगर परिषद अध्यक्षा ने दिया धरना

पाकुड़: पानी और सफाई के अभाव में नगर परिषद के अध्यक्ष ने विरोध किया है। दुर्गा

पूजा के पूर्व से ही पाकुड़ शहर में लगातार जलापूर्ति बाधित रहने एवं साफ-सफाई की

ध्वस्त व्यवस्था को दुरूस्त करने का बार-बार निर्देश देने के उपरांत भी नगर परिषद के

कार्यपालक पदाधिकारी द्वारा लगातार शिथिलता बरती जा रही। वह विकास से संबंधित

कोई भी कार्य करने में रुचि नहीं ले रहे हैं। उक्त आरोप नगर परिषद के अध्यक्ष संपा शाह

एवं उपाध्यक्ष सुनील सिन्हा ने लगाते हुए कहा कि लोक आस्था का महापर्व छठ पूजा में

भी नगर में जल आपूर्ति नहीं हो रही है। इसके विरोध में नगर परिषद के अध्यक्ष सम्पा

साहा के नेतृत्व में एक दिवसीय धरना नगर परिषद कार्यालय के सामने दिया गया।

जिसमें नगर परिषद के उपाध्यक्ष सुनील कुमार सिन्हा, वार्ड पार्षद अंजना राउत, स्वीटी

दास, फिरदोषी खातून, पूनम देवी, कृष्णा शर्मा, अशोक प्रसाद, राणा ओझा, इस्माइल हक,

रतन सरदार उज्जवल हाड़ी, कुतुबुद्दीन अंसारी, रियाज अंसारी अजय दास मौजूद थे।

लगातार चल रहे धरना के क्रम में संध्या 6:00 बजे अंचल पदाधिकारी आलोक वरण केसरी

के द्वारा धरना स्थल पर आने के उपरांत संबंधित समस्याओं से संबंधित मांग पत्र सौंपने

के उपरांत धरना समाप्त किया गया। उपस्थित सभी वार्ड परिषद के सदस्य ने कहा कि

कार्यपालक पदाधिकारी के द्वारा नगर में व्याप्त जन-समस्याओं दरकिनार किया जाता

है। विकास से संबंधित कई फाइलें कार्यालय में धूल चाट रहे हैं। नगर परिषद के अध्यक्ष

संपा शाह ने काफी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि बार-बार कहने के बावजूद भी यह

अपनी कार्यशील शैली में परिवर्तन नहीं कर रहे हैं। फल स्वरूप विकास का काम बाधित हो

रहा है।

पानी और सफाई के अभाव में जनजीवन प्रभावित

यदि यह अपने कार्य शैली में परिवर्तन नहीं करते हैं तो आने बाले दिनों विशाल जनसमूह

के साथ चक्का जाम किया जाएगा।इस संबंध में पूछे जाने पर कार्यपालक पदाधिकारी ने

बताया कि लोगों को छठ में पर्याप्त जल मिले मैं और जे ई दोनों व्यक्ति रात जग्गा कर

इसके लिए भरपूर प्रयास किया हूं। पानी प्राप्त मात्रा में नहीं है फिर भी लोगों को यथा

संभव जल आपूर्ति क्या गया है। छ्ठ के दिन मुख्य सड़क पर जल का छिरकाव किया

जाएगा। नई मोटर धनबाद तक आ चुकी है। इसे आते ही शीघ्र दुरुस्त कर इस समस्या का

समाधान कर लिया जाएगा। नगर में साफ-सफाई नित्य नियमित जारी है। प्रत्येक वार्ड में

भी सफाई की जा रही है।

क्या कहती है जनता

महीनों से पानी बाधित है। उचित मात्रा में जल नहीं मिलता है। किंतु जल कर संपूर्ण

चुकाना पड़ता है। देर से देने पर फाइन भी लगता है। किंतु जब पानी नहीं मिलता है तो

उसका भी बिल जोड़ कर ले लिया जाता है। पानी प्रतिदिन नहीं मिलती है। आज जो पानी

मिला है वह भी बहुत कम है। मुख्य सड़कों के किनारे किनारे सफाई होती है किंतु नगर के

भीतरी भागों में सफाई का घोर अभाव है। पानी और सफाई की नितांत आवश्यकता है।

यदि जन आंदोलन होता है तो हम सब साथ है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: