विराट कोहली की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अग्निपरीक्षा

विराट कोहली की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अग्निपरीक्षा
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली : विराट कोहली का बीता साल का रिकार्ड शानदार रहा है। अब कोहली के सामने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की दूसरी चुनौतियां हैं।

मौजूदा दौर में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में शुमार कोहली को बल्लेबाज के तौर पर ही नहीं, कप्तान के तौर पर भी इस साल अग्निपरीक्षा से गुजरना होगा।

उनके लिए अपनी श्रेष्ठता साबित करने के लिए बड़ा मौका है।

2019 में विराट कोहली के सामने सबसे बड़ी चुनौती है इंग्लैंड में होने वाला 50 ओवरों का क्रिकेट वर्ल्ड कप।

कोहली की कप्तानी का लिटमस टेस्ट इसी टूनार्मेंट में होगा।

2019 वर्ल्ड कप ही कोहली की कप्तानी की दशा और दिशा तय कर सकता है।

कोहली के पास कपिल देव और महेंद्र सिंह धोनी के क्लब में शामिल होने का मौका होगा।

1983 में भारत को कपिल देव ने पहली बार वर्ल्ड कप जिताया था।

उसके ठीक 28 साल बाद महेंद्र सिंह धोनी ने भारत को 2011 का वर्ल्ड चैंपियन बनाया।

अब 8 साल बाद विराट कोहली पर भारत को तीसरा वर्ल्ड कप का खिताब जिताने का जिम्मा है।

विराट कोहली और महेंद्र्र सिंह धोनी की कप्तानी का स्टाइल अलग है।

विराट, धोनी की तरह कामयाबी के नए कीर्तिमान बनाएंगे

और टीम इंडिया को सवालों के दौर से आगे ले जा सकेंगे, इसे लेकर सबकी दिलचस्पी बनी हुई है।

बतौर कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली बिल्कुल दो अलग शख्सियत हैं।

एक ने टीम इंडिया को ऐतिहासिक कामयाबियां दिलाई हैं, तो एक कल की उम्मीदों का नायक है।

एक के नाम खिताबों की लंबी फेहरिस्त है, तो एक से खिताबों की बड़ी उम्मीद।

विराट कोहली अपने आक्रामक तेवर के लिए जाने जाते हैं।

बल्लेबाजी हो या कप्तानी विराट कोहली अपना तेवर बरकरार रखते हैं। वह आक्रामक हैं और अपनी भावनाएं छिपाते नहीं।

साल 2008 में अंडर 19 टीम को वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले कप्तान कोहली के

करियर का सबसे बड़ा पड़ाव और मौका आ गया है, जिसका उन्होंने सपना देखा होगा।

वर्ल्ड कप का इंग्लैंड में होना विराट कोहली के लिए एडवांटेज हो सकता है,

क्योंकि दो साल पहले कोहली इसी धरती पर वर्ल्ड कप की ड्रेस रिहर्सल कर चुके हैं।

2017 में कोहली ने इंग्लैंड में खेले गए मिनी वर्ल्ड कप यानी चैंपियंस ट्रॉफी में भारत को टूनार्मेंट के फाइनल तक पहुंचाया था।

विराट कोहली पर विश्व कप जीतने का भी दारोमदार

लेकिन, इस बार फैंस को उम्मीद होगी कि भारत को चैंपियंस ट्रॉफी 2017 उपविजेता बनाने वाले कोहली इस बार भारतीय टीम को वर्ल्ड कप जितवा दें।

इस साल इंग्लैंड में वर्ल्ड कप 30 मई से 14 जुलाई तक खेला जाएगा।

इस दौरान वहां काफी गर्मी होगी, जिससे इंग्लैंड के हालात भारत को रास आएंगे।

ऐसे में विराट ब्रिगेड के पास अच्छा मौका होगा।

भारतीय टीम काफी संतुलित नजर आ रही है, लेकिन उसके सामने वर्ल्ड कप में

मेजबान इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, साउथ अफ्रीका और पाकिस्तान जैसी टीमों की चुनौती होगी।

अगर विराट की सेना दो साल पहले चैंपियंस ट्रॉफी में किए गए प्रदर्शन को

दोहराने में कामयाब होती है, तो भारत को वर्ल्ड कप जीतने से कोई नहीं रोक सकता।

भारतीय टीम के पास कप्तान विराट कोहली समेत रोहित शर्मा, महेंद्र सिंह धोनी,

हार्दिक पंड्या, शिखर धवन, कुलदीप यादव और जसप्रीत बुमराह जैसे स्टार खिलाड़ी है।

ऐसे में बाकी टीमों पर उसका पलड़ा भारी होगा।

वर्ल्ड कप के इतिहास में रिकॉर्ड 5 बार खिताब ऑस्ट्रेलिया ने जीता है।

ऑस्ट्रेलिया के बाद वर्ल्ड कप की कामयाब टीमों की बात करें तो उसमें 2-2 खिताब के साथ संयुक्त रूप से भारत और वेस्टइंडीज के नाम शामिल है।

भारत अगर 2019 का वर्ल्ड कप जीत लेता है, तो वह तीन खिताब के साथ

ऑस्ट्रेलिया के बाद दूसरी सबसे कामयाब टीम बन जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.