fbpx Press "Enter" to skip to content

विराट कोहली ने इंस्टाग्राम के जरिए किया खुलासा उनके पिता से मांगी थी घूस

  • टीम में सिलेक्शन के लिए मांगी गई थी रिश्वत
  • भारतीय क्रिकेट के स्याह पहलु को उजागर किया

नई दिल्ली: विराट कोहली अगर एक कामयाब क्रिकेटर है तो उसके पीछे उनकी खुद की

कड़ी मेहनत है। विराट कोहली से भारतीय कप्तान विराट कोहली तक का सफर भले ही

आसान नहीं था लेकिन उनकी कड़ी मेहनत ने ही आज उन्हें इस स्थान पर पहुंचाया है।

बता दें कि कोरोना लॉकडाउन की वजह से पिछले दो महीनों से क्रिकेट मैच भी स्थगित हो

गए है जिसकी वजह से सभी क्रिकेटर्स घरों पर ही आराम कर रहे है। हालांकि इस दौरान

कई क्रिकेटर्स इंस्टाग्राम के जरिए एक-दूसरे से जिंदगी से लेकर क्रिकेट तक के सफर को

शेयर कर रहे है। इसी बीच कप्तान कोहली ने अपनी जिंदगी की एक अहम घटना भारतीय

फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री के साथ हुए इंस्टाग्राम चैट के दौरान किया। उन्होंने

बताया कि कैसे उनके पिता प्रेम ने कोहली के टीम में चयन के लिए रिश्वत देने से साफ

इंकार कर दिया था।

कोहली ने सुनील छेत्री से कहा कि उनको दिल्ली टीम में रखने के लिए अधिकारियों ने

रिश्वत की मांग की थी जिसका उनके पिता ने विरोध करते हुए साफ मना कर दिया था।

उनके पिता ने कहा था कि उनका बेटा सिर्फ मैरिट के आधार पर ही खेलेगा न कि रिश्वत

देकर। कोहली ने ये भी बताया कि कैसे उनके घरेलू राज्य दिल्ली में टीम में सिलेक्शन को

लेकर लोग नियमों का पालन नही करते है। कई बार ऐसी चीजें हो जाती हैं जो बिल्कुल

ठीक नहीं होती। कोहली ने आगे बताते हुए कहा कि अधिकारियों ने उनके पिता को कहा

था कि थोड़ी सी रिश्वत से उनका टीम में सेलिक्शन कन्फर्म हो जाएगा।

विराट कोहली ने अपने पिता का किया जिक्र

अपने पिता को याद करते हुए कोहली ने कहा कि वह काफी मेहनती इंसान थे उन्हें रिश्वत

की भाषा समझ नहीं आती थी। उन्होंने साफ तौर पर कह दिया था कि अगर मेरिट के दम

पर विराट क्रिकेट खेल लेगा तो ठीक है, वरना वह रिश्वत देकर अपने बेटे को खेलते नहीं

देख सकते । उस समय विराट का टीम में सिलेक्शन नहीं हुआ जिसके बाद वह काफी रोये

भी थे। कोहली ने कहा कि ‘उस वक्त मूझे पता चला कि दुनिया ऐसी ही चलती है। अगर

आपको आगे बढ़ना है तो कुछ अलग करना होगा’। अपने पिता की कड़ी मेहनत को याद

करते हुए कोहली ने कहा कि ‘अपने पिता से मैनें बहुत कुछ सीखा है और अगर जीवन को

सफल बनाना है तो कड़ी मेहनत बेहद जरूरी है। गौरतलब है कि कोहली ने अपने पिता को

सिर्फ 18 साल की उम्र में ही खो दिया था। जब उनके पिता की मौत हुई, उस समय दिल्ली

की तरफ से विराट कोहली कर्नाटक के खिलाफ रणजी ट्रॉफी का मुकाबला खेल रहे थे।

उन्होंने उस दौरान टीम के लिए शतक भी जड़ा था।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from क्रिकेटMore posts in क्रिकेट »
More from खेलMore posts in खेल »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!