Press "Enter" to skip to content

विनीत नारायण कहा राज्यपाल धनखड़ का नाम जैन डायरी में था




  • पत्रकार का दावा राज्यपाल धनखड़ झूठ बोल रहे हैं

  • इसी पत्रकार ने किया था हवाला कांड का खुलासा

  • अब तक कानूनी पेचिदगियों में उलझा है मामला

राष्ट्रीय खबर

कोलकाताः विनीत नारायण वह पत्रकार हैं, जिन्होंने नब्बे के दशक मे जैन हवाला कांड का




खुलासा किया था। इस कांड के सामने आने के बाद अनेक नेताओं को परेशान होना पड़ा

था। बाद में अन्य राजनीतिक दलों ने भी इस पर अजीब ढंग से चुप्पी साध ली। अब

पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा इस कांड का उल्लेख किये जाने से यह

मामला फिर से चर्चा में आ गया है। सुश्री बनर्जी ने आरोप लगाया है कि पश्चिम बंगाल के

राज्यपाल जगदीप धनखड़ का भी इस मामले में नाम है। खुद राज्यपाल ने इस आरोप को

झूठा बताया है। इसी विवाद के बीच पत्रकार विनीत नारायण ने अपने फेसबुक पर यह

दावा किया है कि राज्यपाल धनखड़ झूठ बोल रहे हैं। श्री नारायण ने इस मामले को फिर से

जीवित करन के लिए पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री का भी आभार व्यक्त करते हुए कहा है

कि जैन हवाला डायरी में जगदीप धनखड़ को सवा पांच लाख रुपये दिये जाने की चर्चा है।

श्री नारायण ने कहा कि वर्ष 1993 से वह लगातार इस मामले पर अकेले लड़ रहे हैं। किसी

भी राजनीतिक दल ने इस गड़बड़ी पर सही तरीके से आवाज भी नहीं उठायी है। विनीत




नारायण के मुताबिक जगदीश धनखड़ के अलावा केरल के वर्तमान राज्यपाल आरिफ

मोहम्मद खान को भी साढ़े सात लाख रुपया दिये जाने की सूचना दर्ज है।

विनीत नारायण ने कहा धनखड़ और आरिफ दोनों के नाम है

श्री नारायण के मुताबिक खुद श्री धनखड़ एक अनुभवी विधि विशेषज्ञ हैं। उन्हें पता है कि

यह मामला आज भी सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है। ममता बनर्जी के आरोपों का समर्थन

करते हुए इस कांड का खुलासा करने वाले पत्रकार ने राज्यपाल धनखड़ और केरल के

राज्यपाल को भी नैतिकता के आधार पर त्यागपत्र देने को कहा है। उनके मुताबिक श्री

धनखड़ अच्छी तरह जानते हैं कि जैन डायरी में उनका नाम है। सुप्रीम कोर्ट में यह मामला

इतना लंबा खींचने की वजह से ही भ्रष्टाचार के ऐसे मामले और बढ़ गये हैं। उस दौरान

अगर दोषी पाये गये लोगों पर कार्रवाई हुई होती तो शायद भ्रष्टाचार इस कदर बेलगाम

नहीं होता। बता दें कि एक आतंकवादी संगठन ने दुबई के माध्यम से हवाला से जो पैसा

भेजा था, वही पैसा राजनीतिज्ञों को बांटा गया था।



More from आतंकवादMore posts in आतंकवाद »
More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from पश्चिम बंगालMore posts in पश्चिम बंगाल »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: