fbpx Press "Enter" to skip to content

मॉनसून के दूसरे दिन तूफानी मौसम का नजारा

  • रांची में सिवरेज से सभी लोगों को परेशानी
  • आसमान पर खूब बिजली कड़की और तेज हवा
  • शहर के कई इलाकों में सिवरेज का जलजमाव
  • शाम के वक्त तेज बारिश से जल्द हुआ सन्नाटा
संवाददाता

रांचीः मॉनसून के दूसरे दिन ही रांची में फिर से सिवरेज की गड़बड़ियों का खामियजा लोगों

को भुगतना पड़ा। पिछले वर्ष भी लगभग यही स्थिति नजर आयी थी। इन्हें सुधारने के

लिए नगर विकास विभाग अथवा नगर निगम की तरफ से कोई पहल नहीं की गयी है।

दरअसल सिवरेज की ऊंचाई पानी के निकास से अधिक होने की वजह से इधर उधर से

बहकर आने वाला पानी सिवरेज की नालियों के बदले सड़कों पर बहने लगता है। आज

बारिश थोड़ी अधिक होने की वजह से सड़कों पर पानी का बहाव भी काफी अधिक रहा। कई

इलाकों में सड़का का आधा हिस्सा नालियों के गंदे पानी के प्रवाह के घिर गया था।

शाम के वक्त करीब पांच बजे से बारिश की रफ्तार तेज हो गयी थी। इसके पहले सुबह भी

कई बार हल्की बुंदाबांदी हुई थी। शाम को बारिश प्रारंभ होने के साथ साथ अचानक

आसमान पर तेजी से बादल भी गरजने लगे। झारखंड के इलाकों में बिजली गिरने की

घटनाएं अधिक होने की वजह से इस दौरान समझदार लोगों ने पेड़ों के नीचे रुकने के बदले

किसी पक्की छत के नीचे ठहरकर इंतजार किया। वैसे जिनलोगों ने पहले से ही बारिश की

तैयारी कर ली थी, वैसे लोग अपने अपने दुपहिया वाहन अथवा साइकिलों पर बरसाती

पहनकर अपने गंतव्य की ओर जाते रहे।

इस तेज बारिश की बौछार अधिक होने के दौरान तेज हवाएं चलने से कुछ स्थानों पर पेड़

गिरने की भी मामूली घटनाएं हुई। लेकिन इस दौरान अब तक किसी बड़ी दुर्घटना की

सूचना नहीं है। सिर्फ अधिकांश इलाकों में नालियों में जमा कचड़ा सफाई के अभाव में

सड़कों पर तैरता नजर आया।

मॉनसून के दूसरे दिन सड़कों का टूटना भी चालू


वैसे इसी बारिश की वजह से फिर से शहर की मुख्य सड़कों के टूटने का सिलसिला भी

प्रारंभ हो गया है। शहर के सबसे वीआइपी मार्ग यानी हरमू बाई पास पर भी कई स्थानों पर

इस बारिश की वजह से नये गड्डे नजर आने लगे हैं। आने वाले दिनों में इन छोटे गड्डों से

बढ़ जाने की वजह से ही बड़े बड़े गड्डों का निर्माण होगा।

आज की बारिश से हरमू नदी पर जल का प्रवाह काफी बढ़ा है। इस वजह से नदी में पहले से

जमा कचड़ा भी काफी देर तक लगातार बहता रहा। वैसे समझा जाता है कि कोरोना लॉक

डाउन की वजह से हरमू नदी में भी औसत प्रदूषण कम होने की वजह से आम दिनों के

मुकाबले कम गंदगी थी। वैसे लॉक डाउन में ढील दिये जाने के बाद खास तौर पर हरमू

घाट के पास नदी की सफाई का काम भी चल रहा था।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!