दूसरे माध्यम से वीडियो लीक हुआ कि वुहान की प्रयोगशाला में चमगादड़ हैं पिंजरे में

दूसरे माध्यम से वीडियो लीक हुआ कि वुहान की प्रयोगशाला में चमगादड़ हैं पिंजरे में
  • वायरस लीक पर विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट पर संदेह

  • डब्ल्यूएचओ ने कहा था वहां चमगादड़ नहीं हैं

  • वीडियो में पिंजरे में रखे चमगादड़ दिखाये गये

  • क्लीन चिट देने वाले भी संदेह के घेर में आये

वाशिंगटनः दूसरे माध्यम से वुहान की चर्चित प्रयोगशाला में चमगादड़ रखे जाने का

वीडियो अब सार्वजनिक हुआ है। इस वीडियो के सामने आने के बाद विश्व स्वास्थ्य

संगठन द्वारा इस प्रयोगशाला को दिया गया क्लीन चिट का मामला ही विवादो में आ

गया है। डब्ल्यूएचओ की टीम ने वहां जांच करने के दौरान वहां चमगादड़ नहीं होने की

बात कही थी। अब दूसरे माध्यमों से जो वीडियो सामने आया है, उसमें यह पता चलता है

कि उस प्रयोगशाला में चमगादड़ सुरक्षित अवस्था में रखे गये हैं। उल्लेखनीय है कि वुहान

के इसी प्रयोगशाला से कोरोना वायरस लीक होने अथवा जानबूझकर छोड़े जाने का आरोप

लगातार लग रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने अपनी एजेंसियों को नये सिरे से

सारा कुछ जांचने का निर्देश दिया है। दूसरी तरफ चीन बार बार वायरस छोड़े जाने के

आरोपों का खंडन करता जा रहा है। सोशल मीडिया में वायरल हुए वीडियो में वहां के एक

शोधकर्ता को इन चमगादड़ों के बारे में बात करते हुए दिखाया गया है। इसी वजह से यह

सवाल उठ गये हैं कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की जांच टीम ने या तो सही ढंग से जांच नहीं

की अथवा उन्हें गलत जानकारी दी गयी थी, जिसके आधार पर उन्होंने कोरोना वायरस

लीक मामले में चीन की इस प्रयोगशाला को क्लीन चिट दे दी है।

दूसरे माध्यम का वीडियो क्लीन चिट पर संदेह के लिए पर्याप्त

इस जांच टीम के सदस्य भी अब संदेह के घेरे में आ गये हैं। किसी माध्यम से यह वीडियो

सोशल मीडिया के जरिए स्काई न्यूज ऑस्ट्रेलिया तक पहुंचा था। वहां इसके प्रसारण के

पश्चात पूरी दुनिया को इस वीडियो का पता चल गया। जिसके बाद से विश्व स्वास्थ्य

संगठन की जांच टीम ही आरोपों के घेरे में आ गयी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की जांच

टीम के सदस्य पीटर डॉसटाक इसकी वजह से निशाने पर हैं क्योंकि उन्होंने ही बार बार

वहां कोई चमगादड़ नहीं होने का दावा किया था। वीडियो में यह देखा जा रहा है कि वहां

वुहान के लैब में चमगादड़ों को पिंजरे में रखा गया है। अब यह वीडियो अगर सही है तो

विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट पर संदेह उत्पन्न होना स्वाभाविक है।

Spread the love

Rkhabar

... ... ...
error: Content is protected !!
Exit mobile version