fbpx Press "Enter" to skip to content

बाजार में टमाटर दाम में भी लाल हो गया

प्रतिनिधि

अनगड़ा : बाजार में अब सब्जियों के दाम मनमाने ढंग से बढ़ने लगे हैं। इससे आम

आदमी की जेब पर अधिक बोझ पड़ने लगा है। इससे पहले कोरोना के लॉक डाउन में

प्रशासन की सख्ती के कारण जरूरी खाद्य सामग्री यथा साग सब्जी के दामों में काफी

नियंत्रण किया गया था। लेकिन अब जैसे-जैसे प्रशासन सुस्त हो रहा है वैसे वैसे जरूरी

खाद्य सामग्री सब्जी आलू के दामों में बढ़ोतरी होने लगी है। जिससे उपभोक्ताओं को भारी

महंगाई का सामना करना पड़ रहा है। सब्जी में टमाटर के दाम जहां 10 से 15 रुपए किलो

बिक रहा था। अब यह टमाटर 70 से 80 रुपए प्रति किलो बाजार में बिक रहा है। सब्जी के

दामों में भारी बढ़ोतरी हो गई है। आलू के दाम भी आसमान छूने लगे हैं।18 से बढ़कर अब

बाजार में आलू 25 से 30 रुपए प्रति किलो बिकने लगा है। पटल 30 से 50 रुपए गोभी 15 से

बढ़कर 50। जबकि प्याज 20 रुपए किलो बिकने लगा है। बाजार में हर सब्जी की कीमतों

में इतनी अधिक बढ़ोत्तरी होने का दुकानदारों के पास तैयार तर्क है। दुकानदारों का कहना

है कि टमाटर बाहर से आ रहा है जिसके कारण भाव में बढ़ोतरी हुई है।

बाजार में अभी स्थानीय टमाटर नहीं आ रहे

अब लोकल स्तर पर टमाटर की आमदनी नहीं है। आलू के थोक विक्रेताओं का कहना है

कि आलू का थोक भाव और बढ़ेगा इसका कारण यह है कि बंगाल में इस वर्ष आलू का कम

स्टॉक है। लेकिन इसके विपरित हैरान करने वाली बात यह है कि प्रशासन जब जब-जब

कड़ाई करता है तो सामान का भाव बहुत ही नियंत्रित रहता है। प्रशासन की सुस्ती के

कारण दुकानदार भी दामों में मनमर्जी करने लगते हैं। जिससे उपभोक्ताओं को काफी

परेशानी उठानी पड़ रही है। वैसे इससे प्रभावित लोगों का मानना है कि इसके पीछे भी

जमाखोरी करने वालों की चाल है, जो बाजार में सब्जियों के दाम में बढ़ोत्तरी कर जबर्दस्त

मुनाफा कमाना चाहते हैं। प्रशासन की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं होने की वजह से उन्हें

ऐसा करने की छूट मिली हुई है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!