इबोला से बचने के लिए युगांडा के स्वास्थ्य श्रमिकों का टीकाकरण

इबोला से बचने के लिए युगांडा के स्वास्थ्य श्रमिकों का टीकाकरण

कांपला: इबोला से बचाव के लिए वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन ने युगांडा के स्वास्थ्य कर्मियों को भी टीका देना प्रारंभ कर दिया है।



युगांडा के स्वास्थ्य मंत्रालय ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के समर्थन से इबोला वायरस रोग के खिलाफ

काम करने वाले फ्रंटलाइन स्वास्थ्य श्रमिकों का टीकाकरण करना शुरू होगा।

देश के तोरोको जिले में गुरुवार से इसकी शुरूआत होगी।

यह जिला लोकतांत्रिक गणतांत्रिक कांगो(डीआरसी) से की सीमा से जुड़ा है और यह वायरस फैलने के

उच्च आशंका वाले पांच क्षेत्रों में शामिल है।

डीआरसी के कई क्षेत्रों में यह वायरस फैल रहा है।

इबोला का वायरस कई इलाकों में तेजी से फैल रहा है

यहां काम रहे स्वास्थ्य श्रमिकों को सुरक्षा के लिए ‘आरवीएसवी-ईबोला’ टीके की 2100 खुराकें दी जायेंगी।

इस विशेष टीके को वर्तमान में डीआरसी में दिया जा रहा है और यह जैयर प्रकार के वायरस के खिलाफ सकारात्मक परिणाम दिखा रहा है।

युगांडा स्वास्थ्य श्रमिकों को यह टीका एहतियातन दे रहा है

क्योंकि पिछली बार एक प्रसिद्ध डॉ। मैथ्यू लुकविया और कई स्वास्थ्य श्रमिक

पीड़ित रोगियों की देखभाल और उपचार करते समय इसकी चपेट मे आकर मर गये।

आरवीएसवी- टीका व्यावसायिक रूप से लाइसेंस प्राप्त नहीं है ले

किन इसका उपयोग डीआरसी में फैले इबोला वायरस को रोकने के लिए सहानुभूति के तौर पर किया जा रहा है।

इस टीके का प्रयोग मई-जुलाई 2018 में इक्वेट्योर प्रांत में इबोला से बचने के लिये किया गया था।



Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.