fbpx Press "Enter" to skip to content

अमेरिका ने तुर्की को गंभीर परिणाम भुगतने की दी चेतावनी







संयुक्त राष्ट्र: अमेरिका ने तुर्की द्वारा उत्तरी सीरिया में चलाए जा रहे सैन्य अभियान में आम नागरिकों के मारे जाने को लेकर उसे गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है।

अमेरिका ने कहा है कि यदि तुर्की उत्तरी सीरिया में सैन्य अभियान के दौरान आम नागरिकों और आतंकवादी समूह

इस्लामिक स्टेट के खिलाफ लड़ने वालों को बचाने में विफल रहता है तो उसे गंभीर परिणामों का सामना करना होगा।

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की स्थायी प्रतिनिधि कैली क्राफ्ट ने गुरुवार को पत्रकारों से यह बात कही।

सुश्री क्राफ्ट ने कहा, ‘‘ तुर्की की यह जिम्मेदारी है कि हिरासत में रह रहे इस्लामिक स्टेट के आतंकवादी जेलों में ही रहें।

यदि तुर्की ऐसा करने में विफल रहता है तो उसे गंभीर परिणामों का सामना करना होगा।’’

उत्तरी सीरिया में तुर्की के सैन्य अभियान पर चर्चा के लिए संयुक्त सुरक्षा परिषद की आपात बैठक बुलाई गई

जिसके बाद सुश्री क्राफ्ट ने यह बयान दिया।

संयुक्त राष्ट्र की बैठक के बाद अमेरिकी अधिकारी ने यह बयान दिया

इससे पहले तुर्की ने बुधवार को उत्तरी सीरिया में कुर्द लड़ाकों के नेतृत्व वाली सेना और इस्लामिक स्टेट के खिलाफ

हमले कर अपने सैन्य अभियान की शुरुआत कर दी है।

तुर्की का कहना है कि वह अपनी सीमा के नजदीक सुरक्षित क्षेत्र बनाने के लिए यह हमले कर रहा है।

तुर्की के इस सैन्य अभियान की अरब लीग, यूरोपीय संघ के सदस्यों समेत पश्चिमी देशोंं ने भी आलोचना की है।

गौरतलब है कि अमेरिका समर्थित कुर्द लड़ाके सीरिया में अपने सहयोगियों के साथ

इस्लामिक स्टेट के खिलाफ लड़ रहे हैं।

अमेरिका ने कहा है कि यदि तुर्की सीरिया में हथियारों का अंधाधुंध इस्तेमाल कर जातीय नरसंहार को अंजाम देता है

तो उसे कड़े प्रतिबंधों का सामना करना होगा।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गुरुवार को पत्रकारों से यह बात कही।

अमेरिकी अधिकारी ने कहा, ‘‘ यदि तुर्की इस तरह से कार्य करता है

जोकि असंगत, अमानवीय अथवा सीमा को पार करने वाली हो

तो राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की नीति के अनुसार अमेरिका उस पर कड़े प्रतिबंध लगाएगा।’’

यदि तुर्की जातीय नरसंहार, सैन्य उपकरणों एवं हथियारों का दुरुपयोग और आम नागरिकों के

खिलाफ हमले करता है तो उसे कड़े अमेरिकी प्रतिबंधों का सामना करना होगा।

अमेरिका ने लड़ाई के बीच मध्यस्थता का भी प्रस्ताव दिया

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने तुर्की और कुर्द लड़ाकों के बीच मध्यस्थता करने की पेशकश की है।

श्री ट्रम्प ने गुरुवार को ट्वीट कर यह पेशकश की।

अमेरिकी राष्ट्रपति का यह बयान ऐसे समय में आया है जब तुर्की ने उत्तरी सीरिया में कुर्द लड़ाकों के नेतृत्व वाली सेना

और इस्लामिक स्टेट के खिलाफ हमले कर अपने सैन्य अभियान की शुरुआत कर दी है।

श्री ट्रम्प ने ट्विटर पर कहा, ‘‘ हमने इस्लामिक स्टेट के 100 प्रतिशत खलीफा को हराकर उनका सफाया किया है

और सीरिया में अब हमारी सेना मौजूद नहीं है, हमने अपना काम पूरी तरह से किया है।

अब तुर्की कुर्द लड़ाकों पर हमले कर रहा है जो पिछले 200 वर्षों से एक-दूसरे के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं।’’

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में तुर्की और कुर्द लड़ाकों के बीच मध्यस्थता करने की पेशकश करते हुए लिखा, ‘‘

हमारे पास तीन विकल्प हैं- हजारों सैनिकों को वहां भेजना और सैन्य जीत हासिल करना, तुर्की पर कड़े आर्थिक प्रतिबंध

लगाकर उसको वित्तीय रूप से कमजोर कर देना अथवा तुर्की और कुर्द लड़ाकों के बीच मध्यस्थता कर एक समझौता करवाना।’’

 



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.