fbpx Press "Enter" to skip to content

अमेरिका ने क्यूबा के विमान परिचालन पर प्रतिबंध लगाया

वाशिंगटनः अमेरिका ने क्यूबा पर अतिरिक्त दबाव बनाने के लिए

उसके सभी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों से अमेरिकी एयरलाइंस के विमानों

की उड़ानों पर दिसंबर से प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय की ओर से जारी वक्तव्य के मुताबिक

क्यूबा की राजधानी हवाना स्थित जोस मार्टी अंतरराष्ट्रीय हवाई

अड्डे को इस प्रतिबंध से दूर रखा जाएगा। वक्तव्य के अनुसार

45 दिनों के भीतर अमेरिका और क्यूबा के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों

के बीच विमानों के परिचालन को रोक दिया जाएगा।

इसका उद्देश्य विमानों के परिचालन से क्यूबा को होने वाले फायदे

को रोकना है। अमेरिकी मीडिया के अनुसार विभिन्न अमेरिकी शहरों

से क्यूबा के सांता क्लारा सेंटियागो और होलगुइन समेत नौ स्थानों

स्थानों की ओर जाने वाली सभी निर्धारित उड़ानों को निलंबित कर

दिया जाएगा।

क्यूबा के विदेश मंत्री ब्रूनो रोड्रिगुइज ने ट्विटर पर अमेरिका के इस

कदम की निंदा की है। उन्होंने कहा कि इससे अमेरिकी लोगों की

स्वतंत्रता के लिए खतरा पैदा होगा और दोनों देशों के लोगों के बीच

संपर्क स्थापित करने में बाधा आएगी। वेनेजुएला के राष्ट्रपति

निकोलस मादुरो की सरकार का समर्थन करने के कारण क्यूबा पर

दबाव बनाने के लिए अमेरिका ने यह कदम उठाए हैं।

गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के कार्यकाल के

दौरान अमेरिका और क्यूबा के रिश्ते खराब हुए हैं। पूर्व अमेरिकी

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने दोनों देशों के रिश्तों को सुधारने के लिए

काफी प्रयास किए थे।

अमेरिका ने क्यूबा पर कई तरह के प्रतिबंध लगाये थे

क्यूबा में जब फिदेल कास्त्रो का शासन था तब भी अमेरिका के

साथ उसके रिश्ते बिल्कुल 36 के थे। रुस के काफी करीब होने

की वजह से फिदेल कास्त्रो हमेशा ही अमेरिका की आंखों में

खटकते रहे थे। लेकिन क्यूबा ने अपने देश के अंदर इस किस्म

के प्रतिबंधों की कोई परवाह नहीं की थी। बाद में दोनों देशों

के रिश्ते सुधरने के बाद अब फिर से यह तनाव उपजा है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

3 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!