fbpx Press "Enter" to skip to content

यूएसए ने बोलीविया में रह रहे कर्मचारियों को स्वदेश बुलाया







वाशिंगटनः यूएसए ने बोलीविया में रहने वाले अपने तमाम कर्मचारियों को स्वदेश

लौट आने को कहा है। उल्लेखनीय है कि बोलीविया में चुनावों में धांधली के आरोप को

लेकर हो रहे हिंसक प्रदर्शनों को देखते हुए यूएसए ने वहां रह रहे अपने कर्मचारियों और

उनके परिजनों को स्वदेश लौटने का आदेश दिया है तथा बोलीविया को ‘यात्रा नहीं करने’

संबंधी देशों की सूची में डाल दिया है। विदेश विभाग ने मंगलवार को जारी एक यात्रा

परामर्श में कहा, ‘‘विभाग ने बोलीविया में राजनीतिक उथल पुथल को लेकर हो रहे

प्रदर्शन को देखते हुए सभी सरकारी कर्मचारी और उनके परिजनों को स्वदेश लौटने के

आदेश दिये है। यूएसए सरकार के पास बोलीविया में अमेरिकी नागरिकों को आपात

स्थिति में सुरक्षा देने की क्षमता बेहद कम है।’’ विभाग ने इस परामर्श को यात्रा नहीं

करने संबंधी श्रेणी-4 में रखा है और नागरिकों के लिए बोलीविया की यात्रा नहीं करने

संबंधी चेतावनी भी जारी की है। विभाग ने परामर्श जारी करने की वजह बताते हुए कहा

कि बोलीविया के प्रमुख शहरों में प्रदर्शनकारी सड़कों और संस्थानों को बंद कर रहे है

जिसकी वजह से परिचालन, बैंक तथा अन्य व्यवस्थाएं भी ठप हो गयी है। कई जगह पर

हिंसक प्रदर्शन भी हुआ है जिन पर काबू पाने के लिए सुरक्षा बलों का इस्तेमाल किया गया

है।

यूएसए ने यह फैसला हिंसा जारी रहने की वजह से लिया

गौरतलब है कि बोलीविया में चल रहे विरोध-प्रदर्शन के बीच देश के राष्ट्रपति इवो

मोरालेस और उपराष्ट्रपति अलवारो गार्सिया लिनेरा ने रविवार को अपने पद से इस्तीफा

दे दिया। श्री मोरालेस और श्री लिनेरा ने सेना के कमांडर विलियम कालिमा के आग्रह पर

हिंसा के बीच इस्तीफा देने की घोषणा की। श्री मोरालेस के चुनाव में दूसरी बार विजयी

रहने के बाद 20 अक्टूबर से वहां विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं। बोलीविया की विपक्षी पार्टी ने

चुनावी नतीजों में धांधली का आरोप लगाते हुए इसे मानने से इंकार कर दिया था।

प्रदर्शन के दौरान हिंसा में सात लोगों की मौत

बोलीविया में चुनावों में अनियमितता को लेकर हो रहे प्रदर्शनों के दौरान हुई हिंसा में सात

लोग मारे गए हैं। एल डेबर न्यूज पोर्टल ने अभियोजन जनकल के कार्यालय के हवाले से

मंगलवार को यह जानकारी दी। इससे पहले की रिपोर्टों में दो लोगों के मारे जाने की

सूचना थी। पोर्टल ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि दो लोग ला पाज में, दो लोग संता क्रूज में

और तीन लोग कोचबम्बा में मारे गये हैं। स्थायी राहत सेवा के एक प्रवक्ता ने बताया कि

12 लोग अस्पतालों में भर्ती हैं। पुलिस के अनुसार इस सिलसिले में 169 लोगों को

हिरासत में लिया गया है।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply