उपेंद्र कुशवाहा के पैरों के नीचे से खिसक सकती है मिट्टी

उपेंद्र कुशवाहा के पैरों के नीचे से खिसक सकती है मिट्टी
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  • पार्टी के सभी विधायक जदयू में जाने को तैयार

प्रतिनिधि

पटनाः उपेंद्र कुशवाहा की मुश्किलें दिनों दिन बढ़ती ही जा रही हैं।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अनबन के बाद उन्हें अपना घर बचाना मुश्किल हो रहा है।

एनडीए सहयोगी जदयू और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के बीच की दूरी कम होने का नाम नहीं ले रही है।

जानकारी के अनुसार आरएलएसपी के दोनों विधायकों को रविवार को जदयू में शामिल होने का न्योता मिला है।

जिस तरह से भाजपा इस विवाद में हस्तक्षेप करने से कतरा रही है उसके बाद माना जा रहा है कि

आरएलएसपी एनडीए से अलग होने का मन बना रही है।

माना जा रहा है कि दिसंबर के पहले हफ्ते में ही आरएलएसपी एनडीए से अलग हो जाएगी।

आरएलएसपी के मुखिया उपेंद्र कुशवाहा, जिन्होंने सार्वजनिक रूप से जदयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार की आलोचना की थी,

उन्होंने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मिलने का समय मांगा है।

आरएलएसपी के विधायक सुधांशु शेखर और लल्लन पासवान ने जदयू के शीर्ष नेताओँ से मुलाकात की है

जिसमे पार्टी के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर भी शामिल हैं।

माना जा रहा है कि दोनों को मंत्री पद का न्योता दियागया है और सासाराम लोकसभा सीट का भी प्रस्ताव दिया गया है।

आपको बता दें कि शेखर मधुबनी के हरलखी से तो पासवान रोहतास के चेनारी से विधायक हैं।

कुशवाहा ने सार्वजनिक तौर पर कहा था कि नीतीश कुमार के विधायकों को तोड़ने का जबरदस्त क्षमता है।

जब बीएसपी, राजद और लोकजनशक्ति पार्टी के बीच टकराव हुआ था तो वह उनकी पार्टी के पीछे पड़ गए थे।

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार को यह पता होना चाहिए कि जिस तरह से दहेज मांगना अपराध है

वैसे ही विधायकों की खरीद-फरोक्त करना भी अपराध है,

 मैंने अमित शाह से मिलने का समय मांगा है और एलएजपी के मुखिया राम विलास पासवान से भी मुलाकात करूंगा।

उपेंद्र कुशवाहा को अमित शाह ने अब तक मिलने का वक्त नहीं दिया

सूत्रों की मानें तो अमित शाह ने अभी तक कुशवाहा को मिलने का समय नहीं दिया है।

दरअसल जदयू और आरएलएसपी दोनों का ही सामाजिक आधार लगभग समान है

और जिस तरह से नीतीश कुमार ने फिर से एनडीए में शामिल हुए हैं

उसके बाद कुशवाहा पर लगाता दबाव बना हुआ है।

जानकारी के अनुसार भाजपा ने आरएलएसपी को 2019 के लोकसभा चुनाव में 2 सीटें देने का प्रस्ताव दिया है,

लेकिन कुशवाहा चार सीट से कम के लिए तैयार नहीं हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.