fbpx Press "Enter" to skip to content

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने मल्टीमीडिया गाइड ‘‘कोविड कथा’’ को किया लॉन्च

नयी दिल्ली : केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ. हर्षवर्धन

ने सोमवार को विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के 50 वें स्थापना दिवस पर

कोरोना वायरस (कोविड 19) पर एक मल्टीमीडिया गाइड ‘‘कोविड कथा’’ को लॉन्च

किया। डॉ. हर्षवर्धन ने वीडियो कॉन्फ्रेंंिसग के माध्यम से विभाग के सभी स्वायत्त

संस्थानों और अधीनस्थ कार्यालयों के प्रमुखों के साथ बातचीत में उन्होंने कहा कि विज्ञान

और प्रौद्योगिकी विभाग और इसकी स्वायत्त संस्थानों ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश का

नाम ऊंचा किया हैं। उनके द्वारा कोविड -19 के प्रकोप से निपटने के लिए की गई पहल

और प्रयास विशेष रूप से महत्वपूर्ण है । उन्होंने बताया कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी

विभाग के राष्ट्र की सेवा के 50 साल में प्रवेश के साथ ही इसका गोल्डन जुबली समारोह भी

शुरू हुआ और देश के विभिन्न हिस्सों में असंख्य गतिविधियों की शुरुआत की गई। डॉ

हर्षवर्धन ने 50 वें स्थापना दिवस के अवसर पर डीएसटी को बधाई दी और कहा ‘‘डीएसटी

और इसके स्वायत्त संस्थानों ने भारत की विज्ञान और प्रौद्योगिकी की उपलब्धियों को

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ऊंचा किया है और असंख्य लोगों को लाभान्वित किया है। विभागीय

संस्थानों ने वैज्ञानिकों को एक प्रतिस्पर्धी मोड के माध्यम से राष्ट्रीय एस एंड टी क्षमता

को मजबूत करने के लिए अलौकिक अनुसंधान और विकास सहायता प्रदान की है।

विभाग के प्रयासों ने चीन और अमेरिका के बाद वैश्विक स्तर पर भारत को विज्ञान और

पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशनों की संख्या के मामले में तीसरा स्थान प्राप्त हुआ है । ’’

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने भारतीय वैज्ञानिकों की सराहना की

उन्होंने कोविड -19 से निपटने में भारतीय वैज्ञानिकों की प्रशंसा करते हुए कहा, ‘‘भारतीय

वैज्ञानिकों ने हमेशा किसी भी चुनौती को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी हैं और इस

बार भी उन्होंने देश को निराश नहीं किया है। हमें याद रखना चाहिए कि इस वक्त हमें कई

मोर्चों पर गति और पैमाने के साथ कार्यों की आवश्यकता थी, जिसमें शामिल स्केलअप के

लिए तैयार प्रासंगिक प्रौद्योगिकी समाधानों की पहचान करने और समर्थन करने के लिए

हमारे पूरे स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी तंत्र की व्यापक मैंिपग, मॉडंिलग, वायरस के गुण

और इसके प्रभाव, उपन्यास समाधान, आदि पर काम करने वाले शिक्षा और अनुसंधान

एवं विकास प्रयोगशालाओं से उद्योगों और परियोजनाओं का समर्थन करना, समाधान

प्रदान करने में प्रासंगिक डीएसटी के स्वायत्त संस्थानों को सक्रिय करना। मुझे खुशी है

कि हमारे डीएसटी वैज्ञानिकों ने प्रतिकूल परिस्थितियों में भी इसे हासिल किया । विशेष

रूप से एस सी टी आई एम् एस टी , तिरुवनंतपुरम का उल्लेख करना चाहूगां है जो 10 से

अधिक प्रभावी उत्पादों के साथ सामने आया है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

4 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!