fbpx Press "Enter" to skip to content

लावारिश लाश की पहचान हुई वीरेंद्र नाग का शव निकला

  • शव की पहचान मृतक की मां और दोनों पत्नी ने की

  • सड़ी गली लाश के संबंध में सस्पेंस हुआ खत्म

  • उसकी गाड़ी गुमला जिले के रायडीह में मिली

  • दूसरी ओर पिंटू अहिर उर्फ पिंटू जिंदा निकला

संवाददाता

लापुंग : लावारिश पायी गयी सड़ी गली लाश की अंततः पहचान हो गयी है। लापुंग के डिंबा

वनटोली के मोहन टोंगरी की झाड़ियों से मिली सड़ी गली शव की पहचान खूंटी जिला के

जरियागढ़ थाना क्षेत्र के छोटका रेगरे गांव के निवासी विरेंद्र नाग के रूप में की गई। शव

की पहचान विरेंद्र नाग की दोनों पत्नियां क्रमशः सरोज देवी और जिंगी देवी तथा उनकी

मां ने लापुंग थाने में किया। सरोज देवी ने अपने पति के शव की पहचान उसके कपड़े

गमछा जूता और पैर में घाव के निशान के आधार पर किया। इस संदर्भ में मृतक विरेंद्र

नाग की पहली पत्नी सरोज देवी ने पुलिस के समक्ष दिए अपने फर्द बयान में खुलासा

किया कि उनके पति ने दो शादी किए हैं। सरोज देवी खुद अपनी ननद उर्मिला देवी के घर

में अरगोड़ा थाना क्षेत्र के पुंदाग रोड में रहती है जबकि उसकी सौतन अपने पति के साथ

छोटका रेगरे में रहती हैं। सरोज देवी ने पुलिस को बताया कि उनके पति विरेंद्र नाग एक

बोलेरो गाड़ी खरीदे हैं जिसे वे भाड़ा में चला कर अपनी आजीविका चलाते हैं। 20 जुलाई को

वे अपनी छोटी पत्नी जींगी देवी को बताया कि वह लापुंग थाना क्षेत्र के बड़काकुरा

-बोकरन्दा से एक मुंडा परिवार का लड़की देखने के लिए गुमला जिले के रायडीह के लिए

गाड़ी बुक है। सोमवार को जाना है और मंगलवार को वापस लौटना है।

लावारिश लाश की पहचान के बाद उसकी गाड़ी का भी पता चला

इसकी जानकारी देते हुए 20 जुलाई को दिन के 12:00 बजे घर से बोलेरो लेकर निकले फिर

वापस नहीं लौटे। विरेंद्र जब मंगलवार की शाम तक नहीं लौटे तो जिंगी देवी ने फोन किया

तो स्विच ऑफ मिला। बुधवार की सुबह तक लगातार फोन करने पर एक बार मोबाइल

खुला मिला रिंग भी हुआ लेकिन उधर से उठाया नहीं गया। इसके बाद मोबाइल पुन:

स्विच ऑफ हो गया। इस बीच उन्हें खबर मिली कि एक बोलेरो गाड़ी रायडीह के मेन रोड

के पास लगा हुआ है और उसका इंजन स्टार्ट है और चारों गेट खुले हुए हैं। लेकिन बोलेरो में

कोई नहीं है। इसी सूचना के आलोक में विरेंद्र नाग की दोनों पत्नियां और मां अपने

परिजनों के साथ रायडीह पहुंचे। वहां बोलेरो गाड़ी तो मिला लेकिन विरेंद्र का कोई पता नहीं

चला। इधर लापुंग थाना क्षेत्र के डिम्बा वनटोली के मोहनटोंगरी में एक व्यक्ति के शव

मिलने की खबर मिलने पर शनिवार को अपराहन 3:30 बजे सरोज देवी और जिंगी देवी ने

अपने पति के शव की पहचान की। उन्होंने पुलिस के समक्ष दावा किया कि षड्यंत्र के तहत

उनका अपहरण किया गया और फिर उनकी हत्या कर दी गई। शव को छिपाने की नियत

से डिंबा के वनटोली स्थित मोहन टोंगरी के झाड़ियों में शव को फेंक दिया गया। इस संदर्भ

में सरोज देवी के फर्द बयान के आधार पर लापुंग थाने में कांड संख्या 18/2020 भादवि की

धारा 364, 302, 201 एवं 34 आईपीसी के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ अपहरण तथा

हत्या का मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम हेतु रिम्स भेज दिया।

लापुंग के थानेदार जगलाल मुंडा ने शव का डीएनए टेस्ट कराने का भी अनुरोध किया है।

सरिता देवी का पति जिंदा पाया गया

लापुंग पुलिस को लापुंग थाना क्षेत्र के डिम्बा वनटोली के निकट मोहन टोंगरी में सड़ी गली

हुई अवस्था में एक लाश मिली थी। पहले तो गाड़ा सियार टोली के पिंटू महतो की पत्नी

सरिता देवी ने उस शव पर दावेदारी करते हुए कहा था कि यह उसके पति का शव है।

लेकिन उसका दावा निराधार निकला। पिंटू अहिर उर्फ पिंटू महतो गुमला जिले के

विशुनपुर थाना क्षेत्र के महुआटोली में अपनी दूसरी पत्नी के साथ रह रहा है और पूरी तरह

सुरक्षित है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »

2 Comments

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: