fbpx Press "Enter" to skip to content

महिलाओं के चेहरे पर उज्ज्वला योजना ने लाया उजाला

रांची : महिलाओं के चेहरे पर उज्ज्वला योजना ने उजाला लाने का कार्य किया है, जिससे

हर घर में गैस चूल्हे जलने लगे है। केंद्र सरकार कोरोना के कारण लगने वाले लॉकडाउन

को लेकर शुरू से ही सजग थी कि इस प्रतिबंध मे कारण देश में कहीं भी कोई भूखा ना

सोये। और इसके लिए सरकार ने महिलाओं के हाथों में सबल देना सबसे कारगर समझा।

कुछ साल पहले प्रधानमंत्री की दूरदर्शी सोच से खुले जीरो-बैलेंस जनधन खातों में केंद्र

सरकार ने महिलाओं को अप्रैल-जून की तिमाही के लिए हर महीने 500 रुपये देने का

फैसला किया ताकि वो अपना घर बार चला सके। साथ ही इन तीन महीनों के लिए मुफ्त

सिलिन्डर का भी सरकार ने बंदोबस्त किया, ताकि खाने पीने की कोई परेशानी न हो,

प्रधानमंत्री अन्न योजना से देशभर के राशन कार्ड धारकों को अन्न और दलहन भी

उपलब्ध कराया गया। रामगढ़ जिले के ताला-टांड गांव की सरस्वती देवी के परिवार को

लॉकडाउन में राशन तथा खाते में गैस के पैसे मिले हैं जिससे इनको काफी सुविधा है।

महिलाओं ने कहा अब उन्हें लकड़ी के धुएं से मुक्ति मिल गई है

पीएम गरीब कल्याण पैकेज के अंतर्गत सरकार के द्वारा 97.8 लाख मुफ्त उज्ज्वला

सिलेंडर दिए जाएगे। पी.एम.यू.वाई लाभार्थियों को अगले तीन महीनों तक इसकी

नि:शुल्क आपूर्ति की जाएगी। पहले रीफील के लिए 803 रुपये की राशि सभी लाभार्थियों

के अकाउंट में भेज दी गयी है। उज्जवला योजना ने महिलाओं के चेहरे पर उजाला ला

दिया है। मांडर प्रखंड के पुनगी गांव की सुकरी उज्जवला योजना के तहत गैस पाकर खुश

हैं। इस गांव की अधिकांश महिलाओं ने कहा कि अब उन्हें लकड़ी के धुएं से मुक्ति मिली

है। हरही रांची की परनो उरांव भी उन्हीं में से एक हैं। उन्होंने इसके लिए सरकार का

धन्यवाद किया। रामगढ़ की अमृता खेस के घर लॉक डाउन के वक्त भी रसोई गैस की

कोई दिक्कत नहीं है, जिसका श्रेय उज्जवला योजना को सीधे तौर पर जाता है। उन्हें गैस

भराने के लिए इस योजना के तहत सरकार से राशि मिली है, और गैस आया है, जिससे घर

वालों के लिए खाना बन रहा। रांची के मांडर प्रखंड के कंदरी नावाटोली गांव की हिरामनी

उरांव सरकार का धन्यवाद करते हुए कहती हैं कि लॉकडाउन में सरकार इसी तरह सुविधा

देते रहे। राशन मिला, उज्ज्वला योजना से गैस मिली, पहले से सुविधाएं भी ज्यादा मिली।

खाद-बीज खरीदने में मिल रहा सहयोग

लॉकडाउन में सरकार को वंचित वर्गों का खास ख्याल है ताकि उन्हें छोटी मोटी जरुरत की

चीजों के लिए किसी पर निर्भर न होना पड़े। महिला जनधन खाताधारकों को रु॰ 500 की

आर्थिक सहायता राशि भेजी गयी है। मुश्किल कि इस घड़ी में यह राशि महिलाओं के लिए

फायेदेमंद साबित हो रही है। रांची के पुसवा मुंडा और उनकी पत्नी फुलमनी देवी को लॉक

डाउन के दौरान केंद्र प्रायोजित गरीब कल्याण योजना का लाभ मिला है। इस योजना के

तहत जन वितरण प्रणाली की दुकान से उन्हें राशन मिला है, जिससे अब इन्हें खाने पीने

की किसी प्रकार की परेशानी नहीं है। मांडर प्रखंड के कंदरी गांव के भागु पाठक सरकार को

धन्यवाद देते हुए कहते हैं कि किसान सम्मान निधि से मिले पैसों ने इस लॉकडाउन में

बड़ी राहत दी है। इससे खाद-बीज खरीदने में सहयोग मिल रहा है। दिलीप कुमार मिश्रा

मांडर प्रखंड के पुनगी गांव के किसान हैं। इन्हें पीएम किसान सम्मान निधि के तहत दो

हजार रुपये मिले हैं। यद्यपि दिलीप के पास सफेद कार्ड है, फिर भी उन्होंने राशन दिए

जाने की बात कही है। झारखण्ड के जिला लोहरदगा ग्राम चिरी, प्रखण्ड कूड़ु की रहने वाली

तैमून खातून कोविड-19 के इस मुश्किल समय में दिव्यांग पेंशन योजना के तहत पैसे

मिलने से खुश हैं, और प्रधानमंत्री जी को धन्यवाद देती हुई खुशी जताती हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from कामMore posts in काम »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from महिलाMore posts in महिला »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from लाइफ स्टाइलMore posts in लाइफ स्टाइल »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »
More from हादसाMore posts in हादसा »

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!