बिहार में स्थानांतरण की बैठक में उलझ गये दो वरीय अधिकारी

बिहार में स्थानांतरण की बैठक में उलझ गये दो वरीय अधिकारी
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  • नौ सौ पुलिसकर्मियों को किया गया तबादला

  • विवाद की जानकारी सुशासन मुखिया तक पहुंची

  • कौन अधिकारी कर रहे हैं पुलिस मुख्यालय मे गुटबाजी

संवाददाता

पटना: बिहार में  स्थानांतरण बैठक में एक बार फिर दो बड़े आईपीएस अधिकारियों के बीच  आपस में तीखी नोकझोंक हुई।

बताया जाता है कि चार नवंबर को हुई स्थानांतरण की बैठक में पांच हजार से कुछ कम पुलिस कर्मियों के स्थानांतरण को लेकर बैठक थी।

बिहार के मुखिया नीतीश कुमार के पास दोनों अपर पुलिस महानिदेशक के बीच हुए विवाद की जानकारी  भी हुई है।

आखिर पुलिस मुख्यालय में कौन अधिकारी गुटबाजी को हवा दे रहे हैं।

ऐसी परिस्थिति में क्या बिहार के मुखिया आईपीएस अधिकारियों के तबादले पर जल्द कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं

लेकिन त्यौहार के महत्वपूर्ण पर्व को देखते हुए बिहार के मुखिया नीतीश कुमार ने आईपीएस अधिकारियों के तबादले पर फिलहाल रोक लगा दी थी

लेकिन अब त्यौहार समाप्त हो चुका है।

त्योहार समाप्त होने के बाद बदले जाएंगे कई आइपीएस

ऐसे कई अधिकारियों को चिन्हित किया जा रहा है जो पुलिस मुख्यालय में गुटबाजी को हवा दे रहे हैं

माना जा रहा है कि जल्द ही बिहार के मुखिया नीतीश कुमार के द्वारा  बड़े आईपीएस अधिकारियों का तबादला किया जा सकता है।

बिहार में हुए पुलिस हंगामे के बाद फिर से बड़े स्तर पर पुलिसकर्मियों का तबादला किया गया है।

बिहार पुलिस मुख्यालय के आदेश पर रेल डीआईजी ने करीब नौ सौ पुलिसकर्मियों का तबादला कर दिया है।

पूरे बिहार पांच हजार से कुछ कम पुलिसकर्मियों का तबादला पहले ही हो चुका है।

यह बैठक चार नवंबर को में हुई थी जिसमें दो अपर पुलिस महानिदेशक से बीच स्थानांतरण को लेकर विवाद भी हुआ था।

पुलिस मुख्यालय के एक अपर पुलिस महानिदेशक जो 2029 में रिटायर करेंगे,

उनको एक अपर पुलिस महानिदेशक ने सीधे कह दिया यदि स्थानांतरण के बारे में सवाल पूछना है तो

बिहार के मुखिया नीतीश कुमार से पूछे उनके निर्देश पर यह तबादला किया जा रहा है।

उस मीटिंग में भागलपुर आईजी, दरभंगा आईजी,मुजफ्फरपुर आईजी, पटना आईजी नहीं मौजूद रहने के कारण

पटना के दो डीएसपी रैंक के अधिकारी को मीटिंग में भेजा गया था।

बिहार में इस तबादले पर भी अफसरों की गुटबाजी हावी

पुलिस मुख्यालय द्वारा किए गए तबादले में 210 हवलदार और बाकी के सिपाही हैं।

वहीं, डीआईजी रेल ने सभी रेल पुलिसकर्मियों को एक दिसंबर तक ज्वाइन करने का आदेश दिया गया है।

कुछ दिन पहले भी मुख्यालय द्वारा तकरीबन पांच हजार से कुछ कम पुलिसकर्मियों का तबादला किया गया

इस बैठक में निर्णय लिया गया था कि छह साल या उससे अधिक समय से एक ही जगह पर जमे हुए

पुलिसकर्मियों का दूसरे रेल जिला में स्थानांतरण किया जाएगा।

बैठक के बाद रेल डीआईजी बीएन झा ने 906 सिपाही और 210 हवलदार के तबादले का आदेश जारी किया था।

रेल डीआईजी के आदेश में वैसे पुलिसकर्मी भी हैं, जो पुलिस मेंस एसोशियन के पदधारक हैं

और उन्हें थोड़ी राहत देते हुए कार्यकाल खत्म होने के बाद स्वत: विरमित होने का आदेश जारी किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.