दिल्ली में 15 साल पुराने दो लाख वाहन ‘बेकार’, सड़क पर दिखे तो कर लिए जाएंगे जब्त

दिल्ली

दिल्ली परिवहन विभाग ने राजधानी में 15 साल पुराने करीब दो लाख वाहनों को ‘बेकार’ की श्रेणी में डाल दिया है। विभाग ने प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों के खिलाफ शनिवार रात से बड़ा अभियान शुरू करते हुए इन वाहनों को डी-रजिस्टर कर दिया है।

साथ ही, ऐसे वाहनों को सार्वजनिक स्थान पर पार्क करने की अनुमति नहीं होगी।

अगर ये वाहन सड़क पर दिखे तो जब्त कर लिया जाएगा। वहीं, वाहन स्वामी को

वापस करने के बजाए इन्हें स्क्रैप (कबाड़ में कटने) के लिए भेजा जाएगा।

परिवहन अधिकारियों के मुताबिक 15 साल पुराना वाहन, वह निजी हो या

व्यावसायिक, सड़क पर कहीं भी है तो उसे स्क्रैप के लिए भेज दिया जाएगा।

दिल्ली में वाहन हुए बेकार

परिवहन विभाग की इनफोर्समेंट टीम में कर्मचारियों की कमी के चलते नगर

निगम अधिकारियों को भी इसमें तैनात किया गया है, जिससे गलियों, मोहल्लों

में पार्क ऐसे वाहनों पर कार्रवाई की जा सके। परिवहन विभाग ने ट्रैफिक

पुलिस से भी ऐसे पुराने वाहनों को जब्त करने की अपील की है।

परिवहन विभाग ने शनिवार को सड़कों पर ऐसे वाहनों का भी चालान

काटा, जिनके पास प्रदूषण जांच प्रमाण पत्र (पीयूसी) तो था मगर उनके

वाहन अधिक धुआं देते दिखाई दिए। अधिकारियों के मुताबिक प्रदूषण फैलाने

वाले वाहनों के खिलाफ यह अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई होगी। यह दिवाली

तक चलेगी। शनिवार रात में हुई कार्रवाई में 311 वाहनों का चालान हुआ,

जिसमें बगैर पीयूसी वाले 153 वाहन थे। 158 ऐसे वाहनों का चालान भी हुआ

जिनसे अधिक मात्रा में धुआं निकलता साफ दिखाई दे रहा था।

परिवहन अधिकारियों का कहना है कि अगर सोमवार से कोई भी वाहन

बिना प्रदूषण प्रमाणपत्र के पकड़ा जाता है तो 1000 रुपये का चालान होगा।

इसका आशय है कि परिवहन विभाग की ओर से आपके वाहन को उपलब्ध कराया गया पंजीकरण नंबर नष्ट (डिलीट) कर दिया जाता है। इसके बाद अगर वाहन सड़क पर चलता है तो वह अवैध है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.