Press "Enter" to skip to content

दो कुख्यात नक्सलियों ने पुलिस मुख्यालय में किया आत्मसमर्पण







  • समाज की मुख्यधारा में जोड़ना चाहते हैं नक्सली एडीजी जितेंद्र कुमार

पटना: दो कुख्यात नक्सलियों ने आज बिहार के पुलिस मुख्यालय में आत्मसमर्पण कर दिया।

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे के कड़े रुख के बाद अब नक्सलियों ने भी

पुलिस कि आगे आत्मसमर्पण करना शुरू कर दिया है

बिहार के बड़े नक्सलियों के पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है।

बिहार पुलिस मुख्यालय में दोनों नक्सली अपने आपको पुलिस के हवाले किया है।

एडीजी मुख्यालय जितेंद्र कुमार ने बताया कि जन्दाहा के नक्सली

अमरनाथ सहनी राकेश साहनी ने आत्मसमर्पण किया है।

सरेंडर किए नक्सलियों के पास से एक कार्बाइन, देशी पिस्टल, एक कट्टा सहित

दो कुख्यात नक्सलियों के पास से भारी मात्रा में जिंदा कारतूस मिला है।

एडीजी मुख्यालय ने पीसी में बताया कि सरेंडर किए नक्सली अब समाज की मुख्यधारा से जुड़ना चाहते हैं। लिहाजा सरकार की सरेंडर नीति का लाभ इन दोनों को मिलेगा

एडीजी जितेन्द्र कुमार ने बताया कि अमरनाथ पर 14 और राकेश 6 नक्सली मामलों का अभियुक्त रहा है।

अमरनाथ जंदाहा इलाके में जोनल कमांडर स्तर का नक्सली रहा है।सरेंडर किए नक्सली अब समाज की मुख्यधारा से जुड़ना चाहते हैं।

काफी समय से ये लोग फरार चल रहे थे। उन्होंने बताया की सरेंडर पॉलिसी के तहत सभी लाभ देय होंगे साथ हीं जिन हथियारों के साथ सरेंडर किया है।

उसके समतुल्य राशि दी जाएगी अपर पुलिस महानिदेशक मुख्यालय जितेंद्र कुमार ने बताया कि

जो भी नक्सली आत्मसमर्पण पुलिस के आगे करते हैं।

सरकार के द्वारा जिन योजनाओं का लाभ उन्हें दिया जाता है वह दिया जाएगा और पहली वाली स्थिति नहीं है।

यदि अपराधी और नक्सली चाहे तो पुलिस के आगे आत्मसमर्पण करने में किसी प्रकार की परेशानी नहीं आएगी,

पुलिस मुख्यालय में प्रेस वार्ता के दौरान विधि व्यवस्था

अपर पुलिस महानिदेशक अमित कुमार और आईजी संजय कुमार सिंह, शेखर कुमार सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।



Spread the love
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
    4
    Shares

Be First to Comment

Leave a Reply

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com