fbpx Press "Enter" to skip to content

अमित शाह बनकर राज्यपालों को फोन करने वाले दो ठग गिरफ्तार

भोपालः अमित शाह बनकर फर्जी तरीके से मध्यप्रदेश के राज्यपाल को फोन लगाकर

नियुक्ति की सिफारिश करने के मामले में गिरफ्तार किए गए दोनों हाईप्रोफाइल

आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। राज्य पुलिस के विशेष कार्य बल (एसटीएफ) ने इस

मामले में एयरफोर्स में पदस्थ विंग कमांडर कुलदीप बाघेला और पेशे से दंत चिकित्सक

डॉ चंद्रेश को गिरफ्तार करने के बाद कल रिमांड पर लिया है। आरोप है कि मध्यप्रदेश

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय में डॉ चंद्रेश कुलपति बनना चाहते थे और उन्होंने अपने

दिल्ली में पदस्थ मित्र विंग कमांडर कुलदीप बाघेला की मदद से राज्यपाल को इसी

सप्ताह केंद्रीय गृह मंत्री बनकर फोन किया और डॉ चंद्रेश की मदद की बात कही।

राज्यपाल ने शक होने पर केंद्रीय गृह मंत्रालय बात की और धोखाधड़ी का पता चला।

इसके बाद राज्यपाल के परिसहाय की शिकायत पर एसटीएफ ने जांच शुरू कर आरोपियों

को दबोच लिया। एसटीएफ के पुलिस अधीक्षक राजेश भदौरिया ने बताया कि दोनों

आरोपियों से पूछताछ की जा रही है और इस बिंदू पर भी पूछताछ की जा रही है कि क्या

इन्होंने इस तरह से और जगह भी गड़बड़ियां की हैं। दोनों आरोपी तीन दिन तक एसटीएफ

की रिमांड पर हैं। एसटीएफ सूत्रों के अनुसार कुलपति पद के लिए हाल ही में साक्षात्कार

हुए थे। स्थानीय निवासी डॉ चंद्रेश ने भी इसके लिए साक्षात्कार दिया था। उसने राज्यपाल

से सिफारिश के लिए अपने दोस्त बाघेला से संपर्क साधा, जो पहले राज्यपाल का

परिसहाय रह चुका है। डॉ चंद्रेश ने तीन जनवरी को अपने दोस्त बाघेला का मोबाइल फोन

कांफ्रेंस पर लिया और फिर दिन में राज्यपाल के निज सहायक को लैंड लाइन फोन पर

कॉल किया।

अमित शाह बनकर फोन किया तो राज्यपाल को हुआ संदेह

इस दौरान डॉ चंद्रेश ने कहा कि वो केंद्रीय गृह मंत्री का निज सचिव बोल रहा है और

राज्यपाल से बात कराइए। सूत्रों के अनुसार राज्यपाल के लाइन पर आते ही सामने वाले

व्यक्ति (बाघेला) ने केंद्रीय गृह मंत्री बनकर बात की और कुलपति नियुक्ति मामले में डॉ

चंद्रेश की मदद करने की बात कही। राज्यपाल को इस पर शक हुआ और मामले की

पड़ताल में पता चला कि फोन केंद्रीय गृह मंत्रालय से नहीं आया था। इसके बाद राजभवन

की ओर से पुलिस में शिकायत की गयी। मामले की जांच के बाद एसटीएफ ने दो दिन

पहले दोनों आरोपियों को हिरासत में लिया और प्रारंभिक पड़ताल के बाद दोनों को

गिरफ्तार कर लिया गया। अब दोनों एसटीएफ की रिमांड पर हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply