fbpx Press "Enter" to skip to content

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने फिर से दिया विवादित बयान, कहा

  • पंजाबी और हरियाणा के जाट मजबूत हैं पर कम दिमाग

  • अगरतला प्रेस क्लब के कार्यक्रम में मंच से कहा

  • पूरे देश में बयान को लेकर बवंडर खड़ा हुआ

  • उसी मंच से बोलने के बाद क्षमा भी मांग ली

भूपेन गोस्वामी

अगरतला: त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने फिर एक विवादित बयान दिया है।

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब के विवादित बयान पर पूरे देश में हंगामा हो रहा है । हर

बार, भाजपा हाईकमान को त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब के विवादास्पद बयान के लिए

सिर झुकाना पड़ता है। भारतीय जनता पार्टी के सर्वोच्च अधिकारी ने आज कहा कि, अब

भाजपा हाईकमान ने त्रिपुरा के मुख्यमंत्री को उनके विवादास्पद बयान के लिए भी

चेतावनी दी है। इसका उल्लेख करें कि इस बार उन्होंने बताया कि कैसे और किस तरह से

देश में समुदायों को जाना जाता है। पंजाब में पंजाबियों से लेकर हरियाणा में जाटों तक

और फिर आखिरकार वो बंगालियों पर आ गए। अगरतला प्रेस क्लब के एक कार्यक्रम में

बोलते हुए देब विभिन्न समुदायों और राज्यों के लोगों से जुड़ी कथित बारिकियों को

समझाने लगे थे।

देब ने कहा, “अगर हम पंजाब के लोगों की बात करें तो हम कहते हैं, वह एक पंजाबी हैं,

एक सरदार हैं ! सरदार किसी से नहीं डरता। वे बहुत मजबूत होते हैं लेकिन दिमाग कम

होता है । कोई भी उन्हें ताकत से नहीं बल्कि प्यार और स्नेह के साथ जीत सकता है। मैं

आपको हरियाणा के जाटों के बारे में बताता हूं। तो लोग जाटों के बारे में कैसे बात करते हैं।

वे कहते हैं.- जाट कम बुद्धिमान हैं, लेकिन शारीरिक रूप से स्वस्थ हैं। यदि आप एक जाट

को चुनौती देते हैं, तो वह अपनी बंदूक अपने घर से बाहर ले आएगा। बंगाल या बंगालियों

के लिए, यह कहा जाता है कि उन्हें बुद्धिमत्ता के संबंध में चुनौती नहीं देनी चाहिए।

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री लोगों को इलाका वार बारिकी समझा रहे थे

बंगालियों को बहुत बुद्धिमान माना जाता है और यह भारत में उनकी पहचान है, जैसे हर

समुदाय को एक निश्चित प्रकार और चरित्र के साथ जाना जाता है।यह पहली बार नहीं है

जब उन्होंने विभिन्न मुद्दों पर इस तरह के अतिरंजित या तथ्यात्मक त्रुटियों से भरे बयान

दिए हैं।अब पूरा देश अपने त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब के विवादित बयान को लेकर

हंगामा मचा रहा है। पंजाबी और हरियाणा के जाट लोग बिना शर्त माफी की मांग कर रहे

हैं।भाजपा हाईकमान त्रिपुरा के मुख्यमंत्री से जवाब मांग रहा है। इसके बाद हाईकमान के

निर्देशों का पालन करते हुए अब उन्होंने स्पष्टीकरण दिया हैं। हरियाणा के जाटों और

पंजाब के सरदारों को लेकर विवादित टिप्पणी करने वाले त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब

ने अब सफाई में उन्होंने कहा कि पंजाबी और जाट समुदाय पर गर्व करते हुए अगर किसी

की भावनाओं को ठेस पहुंची है तो उसके लिए मैं व्यक्तिगत रूप से माफी चाहता हूं। सीएम

बिप्लब देब ने कहा, ‘अगरतला प्रेस क्लब में आयोजित एक कार्यक्रम में मैंने अपने पंजाबी

और जाट भाइयों के बारे मे कुछ लोगों की सोच का जिक्र किया था। मेरी धारणा किसी भी

समाज को ठेस पहुंचाने की नहीं थी। मुझे पंजाबी और जाट दोनों ही समुदायों पर गर्व है। मैं

खुद भी काफी समय तक इनके बीच रहा हूं। उन्होंने सफाई देते हुए कहा, ‘मेरे कई अभिन्न

मित्र इसी समाज से आते हैं। अगर मेरे बयान से किसी की भावनाओं को ठेस पहुंची है तो

उसके लिए मैं व्यक्तिगत रूप से क्षमाप्रार्थी हूं। देश के स्वतंत्रता संग्राम में पंजाबी और

जाट समुदाय के योगदान को मैं सदैव नमन करता हूं। और भारत को आगे बढ़ाने में इन

दोनों समुदायों ने जो भूमिका निभाई है, उसपर प्रश्न खड़ा करने की कभी मैं सोच भी नहीं

सकता हूं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from त्रिपुराMore posts in त्रिपुरा »
More from नेताMore posts in नेता »
More from बयानMore posts in बयान »
More from विवादMore posts in विवाद »

One Comment

Leave a Reply