fbpx Press "Enter" to skip to content

क्षेत्र के आदिवासी बहुल जाति के लोग महुआ चुनने मे व्यस्त




कुंडहित (जामताड़ा) : क्षेत्र के ग्रामीण अब महुआ फूल चुनने में व्यस्त है। ग्रामीण तड़के ही

परिवार सहित पेड़ो के पास पहुंच जाते है। दोपहर 2 बजे तक वे कड़ी धूप में महुआ चुनकर

घर आते है। इस कार्य में परिवार के छोटे से लेकर बड़े सदस्य तक इस काम मेंं हाथ बंटाते

है। नकदी फसल के रुप मे गरीव तबको के लोगो लिए महुआ एक बरदान के रुप में माना

जाता है। सीजन के मार्च से शुरुहोकर अप्रैल के कुछ दिन सिर्फ डेढ़ महीना तक महुआ

चुनने का काम किया जाता है। ग्रामीण क्षेत्र मे लोग यह ड़ेढ महिना अपना सारा काम

छोड़कर महुआ चुनने मे लगा देते है। इससे गरीब परिवार को दो तीन महिना का भरण

पोषण के काम मेलग जाता है। महुआ चुनने के समय आते ही गरीब तबके के लोक

परिवार के बाल बच्चो के साम सुबह से ही घर से निकल जातेहै। जहां दोपहर तक अच्छा

खासा महुआ चुनने के बाद सभी लोग घर लोैटते है। समय के साथ ही यह फसल बिलुप्त

होते जारहा है। स्थानीय ग्रामीणों ने बताया महुआ फूल अभि बाजार मे 25 से 30 रुपया

किलो के भाव से चल रहा है।

 क्षेत्र मे महुआ पेड़ोंकी संख्या काफी कम हो गयी है

कुछ दिन केबाद यह 30 से 40 रुपया किलो की भाव बढ़ जाता है।लकड़ी माफियों के नजर

महुआ पेड़ पर- लकड़ी माफियों द्वारा दिन दिन यह किमती पेड़ों को काट लेने से क्षेत्र मे

महुआ पेड़ोंकी संख्या काफी कम हो गयी है। इन माफियाओं पर वन अधिकारी द्वारा

नियत्रण नही होने के कारण माफियों का मनोबलदिन दिन बड़ रहा है। जिस कारण क्षेत्र मे

दिन दिन महुआ पेड़ों की संख्या बिलुप्त होते जा रहा है।क्या कहते है ग्रामीण- पुतुलबोना

गांव के बिरेश्रर मुर्मू, रामधन किस्कु, लखिराम किस्कु आदि ने बताया पहले महुआ फसल

सेहम आदिवारी परिवार का तीन चार महिना परिवार का भरण पोषण चलाने का काम हो

जाता था। लेकिन दिन दिन पेड़ काटने के कारण गांव देहात मे महुआ पेड़ों की संख्या कम

हो गया है। लोगो ने बताया यह महुआ पेड़ो से साल मे तीन प्रकार के लाभ मिल जाता है।

जहां महुआ, महुआ का फल तथा बीज से तेल मिल जाता है।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from कृषिMore posts in कृषि »
More from कोडरमाMore posts in कोडरमा »
More from जामताड़ाMore posts in जामताड़ा »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »
More from राज काजMore posts in राज काज »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: