fbpx Press "Enter" to skip to content

पारंपरिक हथियारों से लैस ग्रामीणों ने आउटसोर्सिंग का काम किया बाधित,

धनबाद(झरिया): पारंपरिक हथियारों से लैस ग्रामीणों ने आउटसोर्सिंग का काम रोका।

धनबाद स्थित आउटसोर्सिंग माइनिंग कंपनी में कई रैयत विरोध प्रदर्शन के लिए कंपनी

गेट के सामने पहुंचे. इस मौके पर रैयतों ने बीसीसीएल के खिलाफ नारेबाजी की. रैयतों का

आरोप है कि बीसीसीएल ने जबरन उनकी जमीन को आउटसोर्सिंग माइनिंग कंपनी

सौंपकर कब्जा कर रखा है और उत्खनन कर रही है।

बीसीसीएल एरिया वन अंतर्गत मुराईडीह स्थित आउटसोर्सिंग माइनिंग कंपनी में कई

महिला पुरूष पारंपरिक हथियार तीर धुनष, लाठी, भाला के साथ कंपनी स्थल पहुंच गए.

सभी ने कंपनी गेट के सामने बीसीसीएल के खिलाफ नारेबाजी भी की।वहीं, आउटसोर्सिंग

कंपनी के कर्मियों को कंपनी परिसर में प्रवेश करने से भी रोक दिया। प्रदर्शन कर रहे रैयतों

का आरोप है कि बीसीसीएल ने उनकी 220.81 एकड़ पर कब्जा कर उत्खनन व क्वार्टर

निर्माण करवा रही है। 2015 से बीसीसीएल को इसे लेकर नोटिस भेजा जा रहा है लेकिन

उनकी बात नहीं सुनी जा रही। मजबूरन आज रैयत कंपनी का काम बाधित करने पहुंचे।

बीसीसीएल ने उनकी जमीन पर आउटसोर्सिंग कंपनी माइनिंग को दे दी है। इसके लिए

कंपनी को उन्हें मुआवजा देना होगा या फिर जमीन को खाली करना होगा। वहीं, कंपनी का

काम बाधित करने और पारंपरिक हथियार के साथ पहुंचने की सूचना पर मौके पर बरोरा

पुलिस पहुंची और लॉकडाउन का हवाला देकर समझा बुझाकर आंदोलन को समाप्त

करवाया। इधर, आउटसोर्सिंग कंपनी के प्रबंधक ने कहा कि बीसीसीएल की ओर से उन्हें

यह जगह दी गयी है। रैयत से उन्हें कोई मतलब नहीं है। रैयत की मांग और समस्या का

निराकरण बीसीसीएल कंपनी की ओर से किया जाएगा, उन्हें इससे कोई लेना देना नहीं है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from धनबादMore posts in धनबाद »
More from विवादMore posts in विवाद »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: