fbpx Press "Enter" to skip to content

किसान संगठनों द्वारा देशव्यापी बंद का ट्रेड यूनियन संयुक्त मोर्चा करेगी समर्थन

बोकारो: किसान संगठनों द्वारा देशव्यापी बंद पर केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के सदस्य के तौर

पर संयुक्त मोर्चा बोकारो के बैनर तले बुधवार को सेक्टर चार स्थित गांधी गोलंबर के पास

प्रतिरोध दिवस मनाया गया। सभा की अध्यक्षता आईडी प्रसाद ने किया। सभा को

संबोधित करते हुए नेताओं ने केंद्र सरकार की तीखी निंदा करते हुए कहा कि बीजेपी

सरकार अब तो संसद और सांसदो के अधिकारों पर हमला कर जनतंत्र की खुले आम हत्या

कर रही है। सभी संसदीय मर्यादा को तोडते हुए किसान विरोधी बिल पर विपक्ष द्वारा

मतविभाजन की मांग को ठुकरा कर बिल को झटके से पास करवा लिया गया। जिसका

विरोध देश भर में किसान कर रहे हैं। किसान संगठनों द्वारा आहूत 25 सितंबर के

देशव्यापी बंद का ट्रेड यूनियन संयुक्त मोर्चा समर्थन करता है। केंद्र सरकार की तानाशाही

रवैया के खिलाफ विपक्षी पार्टियो द्वारा राज्य सभा की कार्यवाही का बहिष्कार किए जाने

के बावजूद आज विपक्ष की अनुपस्थिति में सरकार जल्दीबाजी में मजदूर विरोधी श्रम

कानून औद्योगिक संबंध कोड बिल, सामाजिक सुरक्षा कोड बिल और व्यावसायिक

स्वास्थय, सुरक्षा एवं कार्यदशा कोड बिल लाकर कॉरपोरेट घरानो के पक्ष में पास करने जा

रही है। यह बिल पास हो जाने के बाद 74 प्रतिशत औद्योगिक मजदूर और 70 प्रतिशत

औद्योगिक प्रतिष्ठान श्रम कानून के दायरे से बाहर निकाल दिया जायगा। हायर एंड

फायर की नीति धडल्ले से लागू होगा। मजदूरों से ट्रेड यूनियन अधिकार छिन जायगा।

सही मायने में मजदूर आंदोलन और हङताल करने का अधिकार से मजदूर वंचित हो

जायगें। मजदूरों का सामूहिक सौदेबाजी का अधिकार समाप्त हो जायगा और मजदूरों को

मालिक का गुलाम बना दिया जायगा।

किसान संगठनों का आरोप सरकार गुलाम बनाना चाहती है

ऐसी विकट परिस्थिति में मजदूरों के सामने संघर्ष के अलावे कोई दूसरा रास्ता नही है।

सेल के मजदूरों एवं ठेका मजदूरों का वेज रीविजन अविलंब करने, कोरोना वायरस से मृत

मजदूरों-ठेका मजदूरों के आश्रितों को बोकारो स्टील प्लांट में स्थायी नौकरी और 50 लाख

रूपए मुआवजा देने और कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्लांट के अंदर और सेक्टरों मे

समुचित व्यवस्था की जाय। ताकि जान-माल की क्षति को समय रहते रोका जाय। मृत

कर्मचारी के आश्रितो का नियोजन के लिए बनी सहमति को अविलंब लागू किया जाय

आदि मांगे मोर्चा के नेताओं द्वारा उठाया गया। मौके पर सीटू के बीडी प्रसाद, एटक के

रामाश्रय प्रसाद सिंह, एक्टू के देवदीप सिंह दिवाकर, एआईयूटीयूसी के मोहन चौधरी,

एचएमएस के मोतीलाल महतो सहित केएन सिंह, आरके गोरांई, सत्येंद्र कुमार, ब्रजेश

कुमार, आरएस शर्मा, शशिकांत सिन्हा आदि ने भी संबोधित किया।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बोकारोMore posts in बोकारो »
More from विवादMore posts in विवाद »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!