Press "Enter" to skip to content

टोंगा में कोरोना का पहला मरीज अब पाया गया




वेलिंगटनः टोंगा द्वीप पर कोरोना का पहला मरीज अब पाया गया है। कोरोना की पूर्व की सारी लहरों के बीच यह द्वीप कोरोना मुक्त ही रहा है। न्यूजीलैंड से गये एक व्यक्ति को जांच मे कोरोना पॉजिटिव पाया गया है जो इस टोंगा द्वीप का पहला मरीज है।




टोंगा द्वीप के अलावा दुनिया में चंद देश ही ऐसे बचे हैं, जहां अब तक कोरोना का एक भी मरीज नहीं पाया गया है। इनमें से अधिकांश टोंगा द्वीप के आस पास के ही हैं। अपनी सीमित स्वास्थ्य सेवा के बीच भी टोंगा ने कोरोना से खुद को बचाये रखने में अब तक कामयाबी पायी है।

ऐसी स्थिति तब है जबकि पड़ोसी फिजी द्वीप में सारी सावधानी बरते के बाद भी पचास हजार लोग संक्रमित हो गये थे, जिनमें से 673 लोगों की मौत हो चुकी है।

टोंगा के प्रदानमंत्री पोहिवा टी इओनेटा ने अपने रेडियो संदेश में कहा कि न्यूजीलैंड से एक उड़ान आयी थी। इस पर 215 यात्री सवार थे। इनकी जांच में एक व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाया गया है, जो क्राइस्टचर्च से यहां पहुंचा है।

उसमें कोरोना के लक्षण की पुष्टि होत ही उसे दूसरों से अलग कर क्वारेंटीन कर दिया गया है। उस यात्री के लिए अलग से होटल में इंतजाम किया गया है ताकि दूसरों के संपर्क से उसे अलग रखा जा सके।




वैसे क्राइस्टचर्च भी इससे पहले तक कोरोना मुक्त रहा है। ऑकलैंड से आये चार लोगों में कोरोना संक्रमण पाये जाने के बाद ही वहां कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका है।

टोंगा में आया हवाई जहाज क्राइस्टचर्च लौट गया है

यह संक्रमण भी अगस्त माह में फैला है। टोंगा द्वीप पर न्यूजीलैंड से गये यात्री में कोरोना संक्रमण पाये जाने के बाद न्यूजीलैंड के स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि वहां गये हर यात्री को कोरोना के दोनों टीके लग चुके हैं।

यात्रा से पहले उनकी कोरोना जांच की गयी थी और रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही उन्हें सफर की इजाजत दी गयी थी।

टोंगा के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुख्य अधिकारी डॉ सियाले एकाउओला ने कहा कि यह दुखद स्थिति है कि इस जांच रिपोर्ट के आने के पहले ही वह जहाज वापस क्राइस्टचर्च लौट गया है। इसलिए विमान के अंदर भी अगर विषाणु मौजूद हैं तो उसकी जांच नहीं हो पायी है।



Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: