fbpx Press "Enter" to skip to content

टिकटॉक में प्यार हुआ तो असम से बंगाल भाग आयी किशोरी

  • छह दिनों तक घरवाले करते रहे उनकी तलाश

  • शिकायत पर पुलिस खोजना प्रारंभ किया

  • दोनों राज्यों की पुलिस के तालमेल से खुलासा

  • घरवालों तक को नहीं दी थी असली जानकारी

शिलिगुड़ीः टिकटॉक में दोनों का प्यार हुआ था। इस प्यार से पहले इन

दोनों लड़कियों ने इसी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टिकटॉक में एक साथ

वीडियो भी बनाये थे। दोनों का सांझा वीडियो काफी लोकप्रिय हुआ तो

दोनों में नजदीकियां बढ़ी। नतीजा था कि असम के लंका क्षेत्र की एक

लड़की भागकर पश्चिम बंगाल के शिलिगुड़ी चली आयी। दूसरी लड़की

शिलिगुड़ी की ही रहने वाली थी। यहां आने के बाद शिलिगुड़ी की लड़की

ने उसका परिचय अपने दोस्त के तौर पर कराया था। घरवालों को यह

बताया गया था कि वह अपने घरवालों को बताकर ही यहां घूमने आयी

थी। लेकिन घरवालों को दोनों की हरकतों से संदेह हुआ था। यहां के

नौकाघाट इलाके की लड़की के पास असम के 14 साल की दोस्त रहने

के लिए आ जाए, इस बात को घरवाले भी सही तरीके से समझ नहीं

पाये थे। पास पड़ोसी और मुहल्ला होते हुए यह सूचना शिलिगुड़ी

पुलिस तक जा पहुंची थी। इसी बीच बंगाल पुलिस को असम के

लंका इलाके से एक लड़की के भाग जाने की सूचना भी मिल चुकी थी।

इन दोनों सूचनाओं के आधार पर सफेद पोशाक में पुलिस ने दोनों पर

नजर रखा था। वहां नजर आने वाली लड़की ही दरअसल असम से

गायब हुई लड़की है, इसकी पुष्टि होने के बाद असम पुलिस को इसकी

सूचना दी गयी थी। असम में लड़की के घरवालों ने उसके लापता होने

की प्राथमिकी दर्ज करा रखी थी। वहां की पुलिस के यहां पहुंचने के बाद

दोनों को एकसाथ न्यू जलपाईगुड़ी थाना लाया गया। मामूली पूछताछ

में ही दोनों ने आपसी प्यार की बात को स्वीकार कर लिया।

टिकटॉक में प्यार की बात कबूल कर ली

दोनों ने यह भी स्वीकार किया कि दरअसल टिकटॉक की वजह से ही

दोनों में दोस्ती हुई थी जो प्यार में बदल गयी। सारा मामला खुलने के

बाद दोनों किशोरियों को स्थानीय महिला कल्याण के सुपुर्द कर दिया

गया है। वैसे इन दोनों लड़कियों के प्यार की बात की चर्चा फैलने की

वजह से अनेक लोग थाना में भी इस अजूबे को देखने के लिए एकत्रित

हो गये थे। महिला कल्याण विभाग ही इन दोनों किशोरियों का क्या

किया जाना है, इस पर कानून सम्मत कार्रवाई करेगी।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

Open chat
Powered by