fbpx Press "Enter" to skip to content

लातेहार जिले में छठे दिन मंगलवार को तीन नए मरीज मिले

लातेहार : लातेहार जिले ने 13 मई को पहला कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के छठे दिन

मंगलवार को तीन नए संक्रमित मिले। जिले में अब तक मिले चारों मरीजों की ट्रेवल

हिस्ट्री दूसरे राज्यों से जुड़ी है। इन मरीजों के बारे में अच्छी बात यह है कि इन सबों को

जिले में प्रवेश के बाद सरकारी क्वारंटाइन केंद्रों में रखा गया था। डीसी ने एक प्रेस वार्ता में

दो नए पॉजिटिव मामलों की जानकारी दी थी परन्तु बाद में आकड़ों के मिलान के क्रम में

यह संख्या तीन पायी गयी। दो मरीजों का एक ही नाम होने के ऐसा होना बताया गया।

लातेहार के डीसी जिशान कमर ने एक प्रेस वार्ता को सम्बोधित करते हुए जानकारी दी कि

सभी मरीजों को क्वारंटाइन केंद्रों से हटाकर जिला मुख्यालय के राजहार स्थित कोविड

केयर केंद्र में भर्ती करा दिया गया है। डीसी ने बताया कि इनकी ट्रेवल हिस्ट्री तेलंगाना और

पंजाब से जुड़ी है। इन्हें आते ही स्क्रीनिंग के बाद क्वारंटाइन कर दिया गया था। बता दें कि

इससे पहले एक मरीज कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। जिले में कुल मिलाकर 4 कोरोना

पॉजिटिव मरीज हो गये हैं।

लातेहार जिले के कोरोना संक्रमित मरीज बिना लक्षणों का है

डीसी ने जिलावासियों को आश्वस्त किया है कि जिले में कोरोना संक्रमित मरीज मिलने

पर घबराने की कोई बात नहीं है। उन्होंने कहा कि इस परिस्थिति में सिर्फ सतर्क रहने की

जरूरत है। लोग लाकडाउन के नियमों के पालन के साथ ही शारीरिक दूरी बनाए रखें। साथ

ही बहुत आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकलें। उन्होंने कहा कि संक्रमित मरीज आम

लोगों के संपर्क में नहीं आये थे और उनके जल्दी ही ठीक होकर घर जाने की संभावना है।

जिले भर में बड़ी संख्या में बाहर से प्रवासी मजदूर आ रहे हैं। उसी दर से टेस्ट की संख्या

भी बढ़ाई जा रही है। लातेहार के सिविल सर्जन डॉ एसपी शर्मा ने बताया कि जिले ने नए

मरीजों की संख्या तीन है। अब जिले में कुल चार एक्टिव केस हो गए हैं। बात दें कि जिले

भर से अबतक 2600 लोगों का सैंपल जांच के लिए भेजा गया है। जिसमें अब तक 1506

की रिपोर्ट प्राप्त हो चुकी है जिनमें चार लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। जिले भर से 1511

लोगों का सैंपल जांच के लिए भेजा गया है। जिसमें अब तक 681 की रिपोर्ट आ गयी है।

उधर 15 फरवरी से जिले में बाहर से आने वालों की संख्या 12000 से ज्यादा है वहीं दो मई

से अबतक जिले में 4000 प्रवासी लोगों का आगमन हो चुका है। विदित हो कि जिले में

बाहर से आनेवाले प्रवासी लोगों की जांच के लिए तीन रिसीविंग सेंटर बनाये गए हैं जहाँ

लोगों की स्क्रीनिंग कर उन्हें कोरन्टाइन किया जाता है। रेड जोन से आने वाले सभी

प्रवासी मजदूरों को अनिवार्य रूप से सरकारी क्वारंटाइन केंद्रों में ही रखा जा रहा है। उनकी

जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद उन्हें होम क्वारंटाइन किया जा रहा है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat