Press "Enter" to skip to content

सूडान में हजारों ने सैन्य शासन की मांग पर प्रदर्शन किया




खारतूमः सूडान में हजारों लोगों ने सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया। उनकी मांग यह थी देश में सेना शासन को अपने नियंत्रण में लें और वर्तमान सरकार को गद्दी से हटाये।




प्रदर्शनकारियों की मांग थी कि वर्तमान प्रधानमंत्री अब्दल्ला हैमडॉक को हटाया जाए। दरअसल वहां के लोग वर्तमान सरकार की गतिविधियों से नाराज हैं। मध्य खारतूम में इसी वजह से सूडान में सैन्य शासन की मांग के समर्थन में यह प्रदर्शन किया गया।

बता दें कि वहां दो दशक तक ओमर अल बशीर नामक तानाशाह के राज के बाद सेना ने ही वर्ष 2019 में तानाशाह को गद्दी से हटा दिया था। उस वक्त भी जनता तानाशाह के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रही थी।

उसके बाद यहां सेना की देखरेख में ही नई सरकार का गठन किय गया था। अब प्रदर्शनकारी आरोप लगा रहे हैं कि वर्तमान सरकार की जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने में पूरी तरह विफल हुई है।

शनिवार की शाम को सूडान में हजारों प्रदर्शनकारी एकत्रित हुए और उन्होंने आगे बढ़ते हुए राष्ट्रपति भवन के बाहर प्रदर्शन किया। उनकी मांग थी कि देश में फिर से सैन्य शासन ही लागू किया जाए।




सूडान सरकार ने इसे तानाशाह की साजिश बताया

दूसरी तरफ सरकार की तरफ से यह दावा किया गया है कि यह प्रदर्शन भी दरअसल पूर्व तानाशाह के समर्थकों की चाल थी। उस तानाशाह के शासन काल में फायदा उठाने वाले अनेक लोग अब भी मौजूद हैं। जो आम जनता के फायदे के लिए उठाये जा रहे कदमों से परेशान हैं।

इसी वजह से देश की आर्थिक गतिविधियों में जो सुधार लाये जा रहे हैं, उन्हें बंद कराना चाहते हैं। दूसरी तरफ प्रदर्शनकारियो का आरोप था कि सरकार का पूरा ध्यान सिर्फ खारतूम तक ही सीमित है। देश के अन्य भागों में भी बेहतरी हो, इस बारे में सरकार कोई कदम नहीं उठा रही है।

राष्ट्रपति भवन के बाहर एकत्रित प्रदर्शकारियों ने कहा कि वर्तमान सरकार को हटाये जाने तक वे इसी जगह पर डटे रहेंगे। दरअसल इस दौरान देश में महंगाई भी 422 प्रतिशत बढ़ गयी है। जिसकी वजह से देश के अनेक भागों में लोगों को आम जरूरत के सामान भी खरीदना कठिन ह गया है।

पिछले 21 सितंबर को भी सैन्य विद्रोह को नाकामयाब कर दिये जाने का दावा सरकार की तरफ से किया गया था। इसके लिए भी आरोप उन्हीं लोगों पर लगा था जो बशीर के कार्यकाल के दौरान सेना और अन्य प्रशासन में शामिल अफसर थे।



More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: