Press "Enter" to skip to content

लावारिश कुत्ता दिन भर शहर की सैर करता रहता है




हर तरीके के सफर का तरीका जानता है
रेडियो कॉलर से पता चला है कि कहां है
वह अब यहां के समाज का हिस्सा बन गया है

इस्तामबुलः लावारिश कुत्ता दिन भर इधर उधर भटकता रहता है। अब उसे वैसे सारे स्थानीय लोग अच्छी तरह पहचानते भी हैं। चूंकि यह लावारिश कुत्ता है और उसका कोई मालिक नहीं मिला है इसलिए वहां के नगर निगम वालों ने उसका नाम बोजी रख दिया है।




उसके गले में रेडियो कॉलर भी है, जिसके जरिए यह पता चलता रहता है कि वह शहर के किस हिस्से में है। मजेदार बात यह है कि इस लावारिश कुत्ते को दिन भर घूमते रहने की आदत है।

वह इसके लिए ट्रेन, बस, ट्राम और यहां तक की वहां से पानी के जहाज, जिसे फेरी कहा जाता है, उसमें भी सफर करता रहता है।

आम लोगों से घुलने मिलने के बाद भी वह किसी का आदेश नहीं मानता। लगातार शहर के चारों तरफ घूमते रहने की वजह से उसे यह अच्छी तरह पता है कि उसके लिए पीने का पानी और भोजन कहां मिलेगा।

समय पर वह ऐसे स्थानों पर पहुंचकर अपनी प्यास अथवा भूख मिटा लेता है। कुछ माह पहले जब नगर निगम के अधिकारियों की नजर उस पर पड़ी तो उसकी गतिविधियों पर नजर रखने के लिए ही एक रेडियो कॉलर लगाया गया था।

उस पर नजर रखने वालों का कहना है कि वह औसतन प्रतिदिन तीस किलोमीटर का सफर करता है। बड़ी बात यह है कि किस परिवहन से उसे कहां पहुंचना है, यह उसे अच्छी तरह पता होता है।

मेट्रो स्टेशनों पर भी उसे कौन सी ट्रेन पर सवार होना है अथवा पानी के रास्ते में किस फेरी पर चढ़ना है, यह वह जान चुका है।




लावारिश कुत्ता को हर रास्ता और साधन पता है

इन रास्तों पर हर रोज आने जाने वाले भी उसे पहचान चुके हैं।

इसलिए किसी के बगल में जब वह आ बैठता है तो पुराने लोगों को उसके होने से कोई परेशानी नहीं होती है।

अपने परिचितों को वह सर पर हाथ फेरने का मौका तो देता है लेकिन किसी की बात नहीं सुनता है।

वह अपनी मर्जी का मालिक है। लावारिश कुत्ता संकर नस्ल का है और प्यार से लोगों ने इसका ट्विटर और इंस्टाग्राम एकाउंट भी बना दिया है। नगर निगम के अधिकारियों ने बीच में उसकी स्वास्थ्य और मानसिक स्थिति तक की जांच करायी थी। सब कुछ ठीक होने के बाद यह माना गया है कि इस लावारिश कुत्ते को दिन भर घूमते रहना ही पसंद है।

एक बार एक रेस्त्रां में गये दो अपरिचित लोगों ने कुत्ते को देखकर उसे दुत्कार कर भगाने का प्रयास किया था। ऐसा देखकर रेस्त्रां का मालिक दौड़कर आ गया और दोनों ग्राहकों पर नाराज हो गया।

उसने साफ साफ इन दोनों ग्राहकों से कहा कि उन्हें जो कुछ खाना है वह खायें लेकिन इस कुत्ते को नहीं दुत्कारें।

लिहाजा यह माना जा सकता है कि यह लावारिश कुत्ता इस शहर की आबादी में उनलोगों के एक हिस्सा बन बैठा है जो नियमित तौर पर किसी न किसी परिवहन माध्यम से आना जाना करते हैं।



More from HomeMore posts in Home »
More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from तुर्कीMore posts in तुर्की »
More from लाइफ स्टाइलMore posts in लाइफ स्टाइल »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: