पूंजीपतियों के इशारे पर काम कर रही है सरकार : बाबूलाल

पूंहाईकोर्ट निर्माण की जांच अब चीफ जस्टिस की निगरानी में सीबीआइ करे- मरांडी
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  • विभिन्न सामाजिक संगठनों की बैठक डिबडीह में सम्पन्न

वरीय संवाददाता

रांची : पूंजीपतियों के इशारे पर यह सरकार काम कर रही है।

संविधान में आदिवासियों के हितों की रक्षा के लिए बहुत सारे कानून बने हुए हैं।

परन्तु सत्ता पर काबिज लोग कानून को लागू करना नहीं चाहते हैं।

वर्तमान सरकार पूंजीपतियों के ईशारे पर काम कर रही है।

उक्त बातें राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री व झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने कही।

वे रविवार को डिबडीह में आदिवासियों के संवैधानिक अधिकार, कानूनी एवं नीतिगत पहलुओं के अलावा आदिवासी एकता की मजबूती एवं 2019 के चुनाव की रुपरेखा को लेकर समाज के शिक्षाविदों,बुद्धिजीवियों एवं विभिन्न सामाजिक संगठनों के अगुवा की एक बैठक को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि राज्य में जितनी भी नियुक्ति हो रही है, उसमें आदिवासियों की सीट खाली जा रही है।

राज्य के मेडिकल कॉलेजों में 15-16 सीट आदिवासी कोटे का खाली रह जाता है।

राज्य के आदिवासी-मूलवासी की जमीन के नीचे जितने भी खनिज संपदा हैं, उसका मालिकाना हक जमीन मालिक को दिया जाना चाहिए।

पूर्व मंत्री बंधु तिर्की ने कहा कि इस भाजपा सरकार ने सबसे अधिक आादिवासियों को छला है।

पूंजीपतियों के इशारे पर आदिवासियों पर हमला हो रहा है

आज खुलेआम आदिवासियों की संस्कृति, भाषा,परंपरा और उनके संवैधानिक अधिकारों पर हमला किया जा रहा है।

झारखंड नया राज्य यहां के आदिवासी-मूलवासी को लेकर केन्द्र बिन्दु बना कर किया गया था।

लेकिन आज भाजपा सरकार आदिवासियो को हाशिए पर रख कर कानून बना रही है।

मुख्यमंत्री पांच लाख रुपये में आवास देने की घोषणा करते हैं लेकिन आवास आवंटन की क्या रुपरेखा है, कैसे आदिवासियों को देना है,इसका मुख्यमंत्री के पास कोई जवाब नहीं है।

मोरहाबादी मैदान में सरकार ने जो दुकानें बनायी है, उसपर आदिवासी को कितना दुकान आवंटन किया गया।

पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ रामेश्वर ने कहा कि आदिवासी समाज की समस्याओं के लिए हमें एकजुट होकर संघर्ष करना होगा।

जमीन और जंगल के लिए सरकार को ठोस कदम उठाना चाहिए।

पूर्व मंत्री गीताश्री उरांव ने आदिवासी समाज में जो भी विषमताएं हैं, उसे दूर करना होगा।

डॉ करमा उरांव ने कहा कि राज्य में झारखंड मोमेन्टो के नाम पर आदिवासियों की जमीन को लुटने का भाजपा सरकार ने पूरी रुपरेखा तैयार कर ली है।

कार्यक्रम में प्रेमचंद मुर्मू, ग्लैक्शन डुंगडुंग, डॉ प्रकाश उरांव, दयामनी बारला, पूर्व पुलिस उपाधीक्षक दिनेश उरांव,

अजय तिर्की, रतन मुंडा, जगदीश लोहरा,बिबियाना लकड़ा, राम उरांव, अमूल्य नीरज खलखो,

शिवा कच्छप, प्रवीण मुर्मू, प्रो. जौरा उरांव, संध्या कच्छप मुख्य रुप से उपस्थित थे।

मंच का संचालन राजकुमार नागवंशी ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.