fbpx Press "Enter" to skip to content

केरल सरकार को भी अस्थिर कर सकता है सोना तस्करी का यह मामला

  • एनआइए ने मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव से पूछ ताछ की

  •  सीसीटीवी फुटेज से होगी आने जाने वालों की जांच

  •  चर्चा में आयी महिला से परिचय को स्वीकार किया

  •  पंद्रह करोड़ कीमत की सोना तस्करी के तार दूर तक

विशेष प्रतिनिधि

तिरुअनंतपुरमः केरल सरकार के लिए सोना तस्करी का मामला बहुत कठिन साबित होने

जा रहा है। इस मामले में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव के सीधे आरोपों से घिरने की वजह से

इसकी आंच अब खुद मुख्यमंत्री पिनरई विजयन तक पहुंच रही है। एनआईए ने इस

मामले में पहली बार केरल सचिवालय में पैर भी रखा है। इस जांच दल ने वहां के

सीसीटीवी फुटेज की मांग की है। खास तौर पर एक मई से 4 जुलाई तक की वीडियो

रिकार्डिंग मांगी गयी है।

केंद्रीय जांच एजेंसी ने इस बीच केरल के मुख्य सचिव को अपनी जांच के संबंध में एक पत्र

सौंपा है। याद रहे कि यह मामला तब चर्चा में आया जब तिरुअनंतपुरम हवाई अड्डे पर

एक डिप्लोमैटिक बैगेज से तीस किलो सोना बरामद हुआ। उसके बाद तीन लोगों को

हिरासत में लिये जाने के बाद ही मामले की जांच प्रारंभ हुई थी।

मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव पद से हटाये गये आइएएस अधिकारी एम शिवशंकर से भी

पूछ ताछ होने लगी है। उन्हें गत सात जुलाई को भी मामला गरमाने के बाद निलंबित कर

दिया गया था। दरअसल एक महिला के साथ उनके नजदीकी रिश्ता होने की वजह से इस

मामले में वह अधिक शक के घेरे में हैं। वह महिला इस सोना तस्करी रैकेट से जुड़ी हुई

बतायी गयी है। एऩआईए का मानना है कि इस रैकेट में दूसरे लोग भी शामिल हैं। इसी

वजह से केरल सचिवालय के सीसीटीवी फुटेज की जांच की जाएगी। एनआईए द्वारा

सीसीटीवी फुटेज की मांग किये जाते ही सचिवालय के स्तर से यह सफाई दी गयी है कि

उसके ढेर सारे कैमरे काम नहीं कर रहे हैं। इस सफाई से संदेह और गहरा गया है। वहां कुल

83 कैमरे लगे हुए हैं। आरोप है कि इस मामले में संदेह के घेरे में आयी महिला सपना सुरेश

का सचिवालय ने नियमित आना जाना था। वह कई मंत्रियों के पास भी नियमित आया

जाया करती थी। कुछ लोगों का कहना है कि दरअसल इस महिला को मुख्यमंत्री कार्यालय

से ही मदद मिलती थी।

केरल  के मुख्यमंत्री की मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही है

अंदरखाने से छनकर आयी सूचनाओं के मुताबिक पूछताछ में एम शिवशंकर ने कहा है कि

उक्त महिला का सोना तस्करों से रिश्ता हो सकता है, यह बात उन्हें समझ में ही नहीं

आयी थी। उन्होंने मामला पहली बार पकड़ में आने के बाद कस्टम्स विभाग के

अधिकारियों को भी यही बयान दिया था। उन्होंने स्वीकार किया है कि सपना सुरेश और

सारिथ के साथ उनकी जान पहचान थी लेकिन सपना सुरेश के दूसरे पति उनके रिश्तेदार

हैं, इसी वजह से जान पहचान थी। लेकिन इस मामले में जिस संदीप एस नैय्यर की चर्चा

हो रही है, उसे वह नहीं जानते हैं। इस महिला को नौकरी देने के मामले में भी उन्होंने कहा

कि उनके समक्ष जो डिग्री रखी गयी थी, उसके आधार पर ही सपना सुरेश को केरल

सरकार के स्पेस पार्क में नौकरी दी गयी थी। करीब पंद्रह करोड़ रुपये कीमत का सोना

बरामद होने के बाद इसके तार बहुत दूर तक फैले होने की आशंका पहले ही जतायी गयी

है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from केरलMore posts in केरल »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!