Press "Enter" to skip to content

सांप्रदायिक तनाव के विरोध में इस बार काली पूजा नहीं मनेगा

Spread the love



राष्ट्रीय खबर

ढाकाः सांप्रदायिक तनाव के विरोध में इस बार सिर्फ औपचारिक तौर पर पूजा होगी। काली पूजा और दीपावली उत्सव के मौके पर सभी लोग आगामी 4 नवंबर को शाम छह बजे से सवा छह बजे तक मुंह में काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन करेंगे।




सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ एकत्रित संघर्ष का आह्वान करते हुए बांग्लादेश पूजा आयोजन समिति के महासचिव निर्मल कुमार चटर्जी ने यह घोषणा की है। दरअसल दुर्गा पूजा के मौके पर देश के विभिन्न इलाकों में हुए सांप्रदायिक तनाव के बीच मंदिरों और प्रतिमाओं को नुकसान पहुंचाये जाने के विरोध में यह फैसला लिया गया है।

विश्वप्रसिद्ध ढाकेश्वर जातीय मंदिर में आयोजित पत्रकार वार्ता में यह जानकारी दी गयी। उन्होंने स्पष्ट किया कि यह अफवाह फैलायी जा रही है कि इस बार पूजा नहीं होगी। इस बार भी पूजा होगी लेकिन वह सीमित होगी।

दरअसल यह समिति फिलहाल मारे गये लोगों के परिवारों को मुआवजा देने तथा घायलों के ईलाज की मांग पर अधिक ध्यान दे रही है।

समिति ने मारे गये लोगों के आश्रितों को सरकारी नौकरी देने तथा इन घटनाओं के लिए जिम्मेदार पाये गये लोगों का विचार अलग से गठित न्यायाधीकरण में करने की मांग भी की है।

इस पत्रकार वार्ता में बांग्लादेश पूजा आयोजन समिति के अध्यक्ष काजल देवनाथ, सलाहकार जयंत सेन, महानगर कमिटी के अध्यक्ष शैलेन मजुमदार, महासचिव किशोर मंडल सहित अन्य प्रमुख पदाधिकारी मौजूद थे।

सांप्रदायिक तनाव के बीच कुमिल्ला का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

गिरफ्तार इकबाल ने अंततः जांच अधिकारियो के सामने यह स्वीकार किया है कि कुमिल्ला के दुर्गापूजा पंडाल में गणेश मूर्ति के पैर के पास उसने ही कुरान रखा था।




उसे कॉक्स बाजार क्षेत्र के समुद्र तट पर घूमते हुए पुलिस ने रात को गिरफ्तार किया था। वहां से उसे कुमिल्ला ले आया गया है और उसकी पहचान का काम भी पूरा हो चुका है।

वैसे पुलिस को उसने कई बातों की सही सही जानकारी अब तक नहीं दी है। पुलिस के मुताबिक घटना के कुछ दिन बाद तक वह कुमिल्ला में ही मौजूद था।

इसलिए वह वहां से भागकर कॉक्स बाजार कब गया, इस बारे में वह सही जानकारी नहीं दे रहा है। कॉक्स बाजार के समुद्री तट पर गिरफ्तार किये जाने के पहले भी पुलिस ने करीब चालीस ठिकानों पर उनकी तलाश में छापामारी की थी।

पुलिस की पूछताछ में उसने स्वीकार किया है कि वहां कुरान रखने के बाद गणेश प्रतिमा का गदा वह अपने साथ ले गया था। पहले उसने इन बातों से इंकार किया था लेकिन सीसीटीवी फुटेज उसे दिखाये जाने के बाद उसने अपना जुर्म कबूल लिया है।

कॉक्सबाजार के सुगंधा प्वाइंट पर रात को वह क्या कर रहा था, यह भी अब तक राज ही है। कुमिल्ला जिला के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सोहन सरकार के नेतृत्व में जांच अधिकारियों के एक दल ने उससे पूछताछ की है।

वैसे समझा जा रहा है कि वह अब भी अनेक सवालों का सही जबाव नहीं दे रहा है। इस बीच कुमिल्ला के विभिन्न थानों में दर्ज नौ मामलो में कुल 791 लोगों को अभियुक्त बनाया गया है। इसमें से 91 लोग नामजद अभियुक्त हैं। अभियुक्तों में से 44 लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया गया है।



More from HomeMore posts in Home »
More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from धर्मMore posts in धर्म »
More from बांग्लादेशMore posts in बांग्लादेश »

One Comment

Leave a Reply