fbpx Press "Enter" to skip to content

मांस के लिए वन्य जीवों का व्यापार अब रोका जाए- डब्ल्यूएचओ

नयी दिल्ली : मांस के लिए वन्य जीवों के कारोबार पर रोक लगाने की मांग अब डब्ल्यूएचओ ने कर दी है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि इंसानों को संक्रमित करने वाले 70 प्रतिशत नये वायरस

जानवरों से आते हैं और इसलिए दुनिया भर के देशों को मांस के लिए वन्य जीवों के व्यापार पर

प्रतिबंध कड़ाई से लागू करना चाहिये। डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ. तेद्रोस गेब्रियेसस ने

कोरोना वायरस कोविड-19 पर नियमित प्रेसवार्ता में खाने-पीने के कच्चे सामान जैसे मांस-मछली

और सब्जियों के बाजारों में स्वच्छता के सख्त नियम लागू करने की सिफारिश की। उन्होंने

कहा कि ये बाजार दुनिया भर में लाखों लोगों की आजीविका के सुगम साधन हैं, लेकिन कई

जगहों पर उनका नियमन और रखरखाव ठीक ढंग से नहीं हो रहा है। जब इन बाजारों को दोबारा

खोलने के लिए खाद्य सुरक्षा तथा स्वच्छता मानकों के कड़े नियम लागू किये जायें।

उन्होंने सरकारों से वन्य जीवों के माँस के लिए व्यापार संबंधी प्रतिबंधों को कठोरता से

लागू करने की अपील की। उन्होंने कहा सरकारों को भोजन के निमित्त वन्य जीवों की

बिक्री एवं व्यापार पर प्रतिबंधों को कड़ाई से लागू करना चाहिये। डब्ल्यूएचओ वेट मार्केट

के बारे में दिशा-निर्देश तैयार करने के लिए वैश्विक पशु स्वास्थ्य संगठन और

खाद्य एवं कृषि संगठन के साथ मिलकर काम कर रहा है। एक अनुमान के मुताबिक 70 फीसदी

नये वायरस जानवरों से आते हैं। जानवरों से रोगाणुओं के इंसानों में आने की प्रक्रिया

समझने और इसे रोकने के उपायों पर भी मिलकर काम कर रहे हैं।

मांस के लिए कारोबार पर रोक की मांग चीन की वजह से

चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस के फैलने का प्रमुख कारण वन्य प्राणियों का भोजन

करना माना गया है। प्रारंभिक सर्वेक्षण रिपोर्ट में चीन के वैज्ञानिकों ने कहा है कि वन्य प्राणी

पैंगोलिन को खाने से इंसान तक यह वायरस पहुंचा है। अब इसी वजह से पूरी दुनिया में चीन

की आलोचना के बीच ही विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस किस्म के कारोबार को रोकने की मांग की है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat