Press "Enter" to skip to content

शेयर बाजार अगले सप्ताह भी बना सकता है नया रिकॉर्ड, सतर्क रहे निवेशक







मुंंबई शेयर बाजार अगले सप्ताह भी बना सकता है नया रिकॉर्ड, सतर्क रहे निवेशक कोरोना की दो-

दो लहर झेल चुकी भारतीय अर्थव्यवस्था के अब टीकाकरण से आयी तेजी के बल पर अब और तीव्र

गति से बढ़ने की उम्मीद से पिछले पांच सप्ताह से नया रिकॉर्ड बना रहे भारतीय शेयर बाजार में

अगले सप्ताह भी तेजी बने रहने की उम्मीद जतायी जा रही है लेकिन कुछ विश्लेषकों ने इसमें तीव्र

करेक्शन की आशंका भी जतायी है। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स बीते

सप्ताह सरपट दौड़ते हुये पहली बार 60 हजार अंक के स्तर को न:न सिर्फ पार कर गया बल्कि

60333 अंक के उच्चतम स्तर को भी छुआ। इस दौरान यह इससे पिछले सप्ताह की तुलना में

1032.58 अंकों की जबरदस्त उछाल लेकर 60048.47 अंक पर पहुंच गया। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज

(एनएसई) का निफ्टी भी इस दौरान 18 हजारी होने को बेताब दिखा। निफ्टी सप्ताहांत पर 18 हजार

अंक की ओर लपकते हुये 17947 अंक तक चढ़ा और यह 268.05 अंकों की बढ़त के साथ 17853.20

अंक पर रहा। दिग्गज कंपनियों की तुलना में मझौली और छोटी कंपनियों पर दबाव दिखा।

समीक्षाधीन अवधि में बीएसई का मिडकैप 148.26 अंक बढ़कर 25194.84 अंक पर रहा।

शेयर बाजार  इस दौरान बीएसई का स्मॉलकैप 16.55 अंकों की मामूली बढ़त हासिल

शेयर बाजार  इस दौरान बीएसई का स्मॉलकैप 16.55 अंकों की मामूली बढ़त हासिल कर सका और

यह 28023.34 अंक पर रहा। केवल 31 वर्षाें में एक हजार अंक से लेकर 60 हजार अंक तक का

सफर करने वाले सेंसेक्स ने निवेशकों को भी मालामाल किया है। आठ महीने से कुछ अधिक दिनों

में 10 हजार अंक जोड़कर सेंसेक्स 60 हजारी हुआ है। 21 जनवरी 2021 को यह 50 हजार अंक का

स्तर पार किया था। इस दौरान बीएसई का बाजार पूंजीकरण भी 2,61,539.92 करोड़ रुपये पर पहुंच

गया। विश्लेषकों का कहना है कि शेयर बाजार में जिस तरह की तेजी दिख रही है उससे साफ लग

रहा है कि यह वर्ष 2024 से पहले की एक लाख अंक के स्तर पर पहुंच जायेगा। मात्र आठ महीने में

10 हजार अंक जोड़ने वाला सेंसेक्स अगले सप्ताह भी नया रिकॉर्ड बना सकता है क्योंकि विदेशी

निवेशक के साथ ही घरेलू निवेशक भी अब परिपक्व होते दिख रहे हैं और वे सतर्कता से निवेश कर

पूंजी बना रहे हैं। वहीं, कुछ विश्लेषकों ने आशंका जतायी है कि शेयर बाजार में तेजी जारी रहने के

बीच 10 फीसदी तक का करेक्शन दिख सकता है क्योंकि जिस गति से बाजार में तेजी आयी है उसके

मद्देनजर विदेशी निवेशकों के मुनाफा काटने से इंकार नहीं किया जा सकता है। जिस तरह पिछले

सप्ताह एक दिन बाजार में 500 से अधिक अंकों की गिरावट आयी थी उसी तरह से आगे भी किसी

भी दिन मुनाफावसूली दिख सकती है इसलिए छोटे निवेशकों विशेषकर खुदरा निवेशकों को सतर्क

रहने की आवश्यकता है लेकिन पूंजी बाजार की तेजी का लाभ उठाने के लिए कुछ जोखिम उठाना

पड़ेगा।

 



More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from देशMore posts in देश »
More from महाराष्ट्रMore posts in महाराष्ट्र »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: