fbpx Press "Enter" to skip to content

संयुक्त राष्ट्र की भूमिका इस कोविड-19 में महत्वपूर्ण हुई : बोजकिर

संयुक्त राष्ट्रः संयुक्त राष्ट्र महासभा के आगामी 75वें अधिवेशन की अध्यक्षता करने वाले

वोल्कन बोजकिर का मानना है कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) की

मौजूदा चुनौतीपूर्ण स्थिति ने संयुक्त राष्ट्र और उसकी एजेंसियों की भूमिका को काफी

अहम बना दिया है। श्री बोजकिर ने शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों के साथ

वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए चर्चा के दौरान यह बात कही। उन्होंने इस वर्ष सितंबर में

आयोजित होने वाले संयुक्त राष्ट्र महासभा के ऐतिहासिक 75वें अधिवेशन के दौरान

अध्यक्ष के रूप में अपनी प्राथमिकताओं का भी उल्लेख किया। श्री बोजकिर ने कहा, ‘‘

कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण का फैलना और इसी दौरान संयुक्त राष्ट्र महासभा

की 75वीं बैठक होना एक संजोग है। यह बहुपक्षीयवाद की प्रभावी धारणा को याद दिलाता

है जिसमें विशेष रूप से संयुक्त राष्ट्र और उसकी एजेंसियों की अहम भूमिका शामिल है।

कोरोना वायरस का संक्रमण सीमाओं में भेद नहीं करता। इसके खिलाफ लड़ाई में

दोषारोपण, अन्याय और असमानता का स्थान नहीं होना चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि

दुनिया को कोविड-19 से मुक्त बनाने के लिए पूरी दुनिया में व्यापक स्तर पर सार्वजनिक

स्वास्थ्य सेवा और सामाजिक सुधारों की आवश्यकता होगी। श्री बोजकिर ने मौजूदा

कोविड-19 संकट के दौरान संयुक्त राष्ट्र की ओर से उठाए गए कदमों की सराहना की

जिसमें सहयोग और एकजुटता की भावना पर बल दिया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे पूरा

विश्वास है कि महासभा अपनी सार्वभौमिक सदस्यता और अपने सभी सदस्यों की समान

स्थिति के साथ उनके लोकतांत्रिक मूल्यों का सम्मान करते हुए इस महामारी से निपटने

के लिए राजनीतिक मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए सबसे उपयुक्त मंच है।’’ श्री बोजकिर

ने तुर्की के विदेश मंत्रालय में करीब 40 वर्षों तक काम किया है और इस बार 193 सदस्यों

वाले संगठन  की महासभा की अध्यक्षता करेंगे।

संयुक्त राष्ट्र का काम अभी विश्वास पैदा करना है

उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के बड़े समूहों और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के बीच विश्वास

पैदा करना तथा उनके बीच सहयोग की भावना को बढ़ावा देना उनकी प्राथमिकता होगी

ताकि दुनिया में वंचित तबके के लोगों को अपनी आवाज उठाने का मौका मिल सके। श्री

बोजकिर ने अपने कार्यकाल के बारे में कहा कि संयुक्त राष्ट्र के संगठनों और समूहों के

बीच विभिन्न मुद्दों पर सर्वसम्मति बनाना उनके काम का अहम हिस्सा होगा। अफ्रीकी

देशों की जरुरतों और उनकी समस्याओं की ओर विशेष ध्यान दिया जाएगा। 2030 तक

सतत विकास के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में हर संभव प्रयास किए जाएंगे।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat