fbpx Press "Enter" to skip to content

दो डॉक्टरों के भरोसे चल रहा समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बेड़ो

  • बेड़ो अस्पताल में डॉक्टर नहीं घंटों तड़पता रहा घायल

    संवाददाता

बेड़ो: दो डॉक्टरों के भरोसे चल रहा समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र , सड़क दुर्घटना के बाद

घायल को इलाज कराने को लेकर अस्पताल पहुंचे घायल संग परिजन डॉक्टर के नहीं रहने

से सड़क दुर्घटना में घायल घंटों तड़पता रहा। मामला बेड़ो प्रखंड के सामुदायिक स्वास्थ्य

केंद्र की है। जहां डॉक्टर के नहीं रहने से सड़क दुर्घटना में घायल हुए मरीज इलाज को

लेकर घंटों अस्पताल में बगैर इलाज के पड़ा रहा। उधर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंच

जानकारी लेने पर पता चला कि अभी जिस डॉक्टर का ड्यूटी है वे ड्यूटी पर आई ही नहीं

है। उधर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टरों के नहीं रहने से बेड़ो प्रखंड के ग्रामीणों में

आक्रोश व्याप्त है। उधर इसी संदर्भ में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी विनीता प्रसाद से बात

करने पर उन्होंने बताया कि यहां के पहले वाले सभी डॉक्टर कोविड सेंटर में डेपुटेशन पर

लगाया गया है। जिससे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में दो डॉक्टरों मौजूद है। जिनमें से

डॉक्टर सागर तिर्की और डॉक्टर विनीता प्रसाद शामिल है।

दो डॉक्टरों में से एक का भी नहीं होने से खुली पोल

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एडिशनल डॉक्टर अनन्या प्रिया को रोस्टर के हिसाब से आज

ड्यूटी में होना चाहिए पर वे ड्यूटी से गायब है। यह दुर्भाग्यपूर्ण बात है। इस विकट

परिस्थिति में सभी डॉक्टरों को मिलजुल कर काम करना चाहिए पर बेडो सामुदायिक

स्वास्थ्य केंद्र में वैसा नहीं है। उन्होंने बताया कि पूरे अस्पताल में 2 डॉक्टर होने के कारण

एडिशनल के डॉक्टरों के सहयोग से अभी तक पूर्णता अस्पताल ठीक-ठाक चलते आ रही

है। लेकिन तुको उप स्वास्थ्य केंद्र कि डॉक्टर अनन्या प्रिया के रवैया के कारण एडिशनल

में ड्यूटी कर रहे डॉक्टर कुसुम लता और डॉक्टर मुसरत यामानी का कहना है कि हम दो

ही एडिशनल के डॉक्टर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ड्यूटी क्यों करें। उधर सड़क दुर्घटना

में घायल के इलाज को लेकर घंटों बीत जाने के बाद भी डॉक्टर के नहीं पहुंचने पर प्रभारी

चिकित्सा पदाधिकारी विनीता प्रसाद के कहने पर डॉक्टर कुसुम लता दोबारा ड्यूटी करने

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बेड़ो पहुंची। इस दौरान उन्होंने कहा कि एक डॉक्टर 24 घंटा

कैसे ड्यूटी कर सकता है। मैं सुबह 5:00 बजे से शाम 5:30 बजे तक ड्यूटी कर घर के लिए

निकली थी पर अस्पताल में डॉक्टर के नहीं रहने के कारण पुनः वापस मुझे आधा रास्ता

जाकर वापस अस्पताल लौटना पड़ा। उधर सड़क दुर्घटना में घायल हुए सद्दाम राय का

प्राथमिक उपचार कर बेहतर इलाज के लिए डॉक्टर कुसुम लता ने रांची रिम्स रेफर कर


 

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

2 Comments

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: