fbpx Press "Enter" to skip to content

ठाकरे परिवार के प्रथम मुख्यमंत्री ने महाराष्ट्र का राजपाट संभाला

  • सहयोगी दलों से भी दो दो मंत्री बने
  • उद्धव ठाकरे ने ली मुख्यमंत्री की शपथ
  • विपक्ष के कई प्रमुख नेता हुए उपस्थित
  • सोनिया सहित तीन नेता समारोह में नहीं

मुंबईः ठाकरे परिवार की तरफ से उद्धव ठाकरे ने आज महाराष्ट्र के 19वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। इस मौके
पर कई राज्यों के मुख्यमंत्री सहित प्रमुख दलों के नेता भी शिवाजी पार्क के इस समारोह में मौजूद थे। श्री ठाकरे
के साथ उनके मंत्रिमंडल के सहयोगी के तौर पर उद्धव ठाकरे के बाद शिवसेना के एकनाथ शिंदे, सुभाष देसाई
को मंत्रीपद की शपथ दिलाई गई है।

इसके बाद एनसीपी कोटे से विधायक दल के नेता जयंत पाटिल और छगन भुजबल को शपथ दिलाई गई। कांग्रेस
के कोटे से बाला साहेब थोराट को शपथ दिलाई गई। थोराट महाराष्ट्र विधानसभा के सबसे वरिष्ठ नेताओं में से
एक हैं और राज्य कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। कांग्रेस के नितिन राउत को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई गई है।

शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी तीनों दलों से 2-2 मंत्रियों को शपथ दिलाई गई है। इस बीच अंदरखाने से यह
खबर भी आने लगी है कि खेमा बदल कर भाजपा के साथ जाने वाले अजीत पवार को भी इस मंत्रिमंडल में
जगह मिल सकती है और उन्हें इस खेमा से भी उप मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है।

वैसे इस बारे में खुद शरद पवार ने अब तक कोई संकेत नहीं दिया है।

समारोह में शरद पवार के पहुंचने के बाद भी वहां अजीत पवार नजर नहीं आये।

मीडिया की कोशिशों के बाद भी उनका मोबाइल बंद पाया गया।

ठाकरे परिवार के अलावा मुकेश अंबानी सहित कई हस्तियां थी मौजूद

दूसरी तरफ कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी और राहुल गांधी दोनों ने ही इस समारोह में उपस्थित होने में
असमर्थता जाहिर करते हुए इस नये गठबंधन की सरकार को सफलता की बधाई दी है।

इसी तरह पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने भी खुद को इस समारोह से दूर रखा है।

शपथ ग्रहण समारोह के कुछ देर बाद ही उद्धव कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर पहला फैसला भी लिया
गया। पूर्व घोषणा के तहत किसानों को ही इस बैठक में चर्चा के केंद्र मे रखा गया था। सह्याद्री गेस्ट हाउस में
आयोजित इस प्रथम कैबिनेट के बारे में पहले से ही जयंत पाटिल ने जानकारी दे दी थी।

इस बैठक में किसानों का कर्ज माफ करने जैसे संवेदनशील मुद्दे पर त्वरित फैसला लेने के अलावा अन्य विकास
कार्यक्रमों और न्यूनतम साझा कार्यक्रम के तहत 80 प्रतिशत रोजगार स्थानीय लोगों को देने का फैसला लागू
करने पर भरोसा जताया गया है।

मुंबई के ऐतिहासिक शिवाजी पार्क में इस समारोह की तैयारियों के लिए करीब एक हजार लोगों ने दिन रात
काम किया है। ‘महा विकास अघाड़ी’ के नेता उद्धव ठाकरे को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाने के
लिए आर्ट डायरेक्टर नितिन देसाई, करीब 1,000 लोग और डिजाइनरों ने मिलकर शपथ समारोह का मंच तैयार
किया है।

इसे तैयार करने में 1500 घंटे का समय लगा है और यह 8,000 वर्ग फीट में फैला हुआ है जिसमें करीब 300 लोगों
को बिठाया जा सकता है। आमंत्रित अतिथियों को स्टेज के समीप बिठाने के लिए 40,000 से अधिक कुर्सियां की
व्यवस्था की गई है। इसके अलावा क्षेत्र के बाकि हिस्सों में शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस के करीब
3,00,000 कार्यकर्ताओं के मौजूद रहने की व्यवस्था है।

बिना चुनाव लड़े मुख्यमंत्री बनने वाले महाराष्ट्र के प्रथम नेता

वह कोई चुनाव लड़े बिना मुख्यमंत्री बनने वाले राज्य के पहले नेता होंगे।
बुधवार को शिवसेना-कांग्रेस-राकांपा के गठबंधन महाराष्ट्र विकास अघाड़ी ने उद्धव को नेता चुना था।
उन्हें राजनीतिक विरासत पिता बाला साहेब ठाकरे से मिली। उद्धव शिवसेना से मुख्यमंत्री बनने वाले तीसरे नेता हैं।
इससे पहले मनोहर जोशी और नारायण राणे मुख्यमंत्री पद संभाल चुके हैं।

शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे ने कभी कोई चुनाव नहीं लड़ा था। वह हमेशा किंगमेकर की भूमिका में रहे।
ठाकरे परिवार से इस विधानसभा चुनाव में पहली बार उद्धव के बेटे आदित्य वर्ली सीट से चुनाव लड़कर विधायक बने।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply