J&k: बांदीपोरा में आतंकी मुठभेड़ में मेजर समेत चार जवान शहीद; दो आतंकी भी ढेर

पाकिस्‍तान की ओर से उत्‍तर-कश्‍मीर में बांदीपोरा के गुरेज सेक्‍टर में फायरिंग की आड़ में घुसपैठ की कोशिश कर रहे आतंकियों से मुठभेड़ में चार भारतीय जवान शहीद हो गए। इस मुठभेड़ में दो आतंकी भी मार गिराए गए हैं। पाकिस्‍तान की ओर से आतंकियों को भारत में घुसपैठ कराने के लिए लगातार फायरिंग की जा रही है। इस दौरान पाकिस्‍तान की ओर से मोर्टार भी दागे जा रहे हैं। पाकिस्‍तान की ओर से अब भी फायरिंग जारी है। भारतीय जवान भी लगातार पाकिस्‍तान की गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं।

पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा गुरेज (बांडीपोर) सेक्टर में मंगलवार को युद्ध विराम का उल्लंघन कर भारतीय ठिकानों पर की गई गोलाबारी की आड़ में  घुसपैठ कर रहे आतंकियों के मंसूबों को नाकाम करते हुए एक मेजर समेत चार सैन्यकर्मी शहीद हो गए। इस दौरान दो आतंकी भी मारे गए हैं। एक अन्य सूचना के मुताबिक मारे गए आतंकियों की तादाद चार है। फिलहाल, उनके अन्य साथियों को मार गिराने का अभियान जारी है।

जानकारी के अनुसार सोमवार से रुक-रुककर पाकिस्‍तान की ओर से भारतीय बॉर्डर पर गोलीबारी की जा रही थी। इसी दौरान कुछ आतंकी भारत में घुसपैठ करते देखे गए। भारतीय जवानों ने जब उन पर फायरिंग की तो उन्‍होंने भी फायरिंग शुरू कर दी। बताया जाता है कि 2003 में हुए समझौते के बाद पहली बार इस सेक्‍टर में पाकिस्‍तान की ओर से मोर्टार दागे जा रहे हैं। भारतीय जवान भी लगातार पाकिस्‍तान की फायरिंग का जवाब दे रहे हैं।

 गुरेज से मिली जानकारी के अनुसार, सोमवार को अाधी रात के बाद  पाकिस्तानी सैनिकों ने बिना किसी उकसावे के सीजफायर का उल्लंघन करते हुए एलओसी के साथ सटे बकतूर और नैनी इलाके में भारतीय  सैन्य व नागरिक ठिकानों पर गोलाबारी की। पहले तो भारतीय सैनिकों ने इसे उकसावे की कार्रवाई मान संयम बनाए रखा। लेकिन जब गोलाबारी की तीव्रता बढ़ने लगी तो उन्होंने भी जवाबी फायर किया। सुबह तक दोनों तरफ से एक-दूसरे के ठिकानों पर रुक-रुक कर गोलाबारी होती रही।
पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा की गई गोलाबारी के तौर-तरीकों के आधार पर संबधित सैन्याधिकारियों ने हालात का आकलन करते हुए पता लगाया कि गोलाबारी का मूल उद्देश्य आतंकियों के एक दल को भारतीय इलाके में सुरक्षित धकेलना हो सकता है।
तलाशी लेते हुए जवान जब गोविंद नाले के पास पहुंचे तो वहां एक जगह छिपे आतंकियों ने उन पर हमला कर दिया। आतंकियों ने जवानों पर राइफल ग्रेनेड दागे और उसके बाद उन्होंने अपने स्वचालित हथियारों से फायरिंग की। इसमें सैन्य दल के कुछ जवान जख्मी हो गए, लेकिन उन्होंने तुरंत अपनी पोजीशन ली और जवाबी फायर करते हुए आतंकियों को मुठभेड़ में उलझा लिया।
इस बीच, निकटवर्ती चौकियों से भी जवानों की अतिरिक्त टुकड़ियां मौके पर पहुंच गईं। जवानों ने अपने घायल साथियों को वहां से अस्पताल पहुंचाने का बंदोबस्त करते हुए आतंकियों को मार गिराने का अभियान जारी रखा। सुबह 10.30 बजे तक दो आतंकी मारे गए थे, जबकि स्थानीय सूत्रों ने चार आतंकियों के मारे जाने का दावा किया है। इस बीच अस्पताल में डाक्टरों ने 36 आरआर से संबधित मेजर केपी राणे, हवालदार जैमी सिंह,हवालदार विक्रमजीत सिंह और राइफलमैन मनदीप को शहीद करार दिया।
संबधित सैन्याधिकारियों ने बताया कि मारे गए आतंकियों के शव पाकिस्तानी सैनिकों की सीधी फायरिंग रेंज में एलओसी के अगले हिस्से पर हैं, इसलिए उन्हें तत्काल कब्जे में नहीं लिया जा सका है। फिलहाल, घुसपैठियों के खिलाफ सैन्य अभियान जारी है।
Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.