fbpx Press "Enter" to skip to content

दस हजार लोगों ने नेदरलैंड में मांगी इच्छामृत्य

  • शोध में सामने आयी हैरान करने वाली जानकारी

  • स्वास्थ्य मंत्री ने संसद को दी है इसकी जानकारी

  • गंभीर किस्म की बीमारियों से तंग आ चुके हैं लोग

लंदनः दस हजार लोगों ने अगर अपनी मौत मांगी है तो यह सूचना

वाकई हैरान करने वाली है। लेकिन यह सूचना पूरी तरह सच है। ऐसी

घटना नेदरलैंड में घटी है। इस बारे में वहां के संसद में भी गंभीर चर्चा

हो चुकी है। हाल ही में संसद में देश के स्वास्थ्य मंत्री और डच सांसद

क्रिस्चियन डेमोक्रेट ह्यूगो डि जोंग ने एक रिपोर्ट के हवाले से बताया

कि देश के 10 हजार लोगों ने सरकार से इच्छा जाहिर की है कि वे

अपनी जिंदगी खत्म करना चाहते हैं। इन सभी लोगों को इसकी

अनुमति दी जाए। इन सभी लोगों की उम्र 55 साल से अधिक है। ये

सभी लोग अपनी गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं। इसलिए अपना जीवन

खत्म करना चाहते हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ये आंकड़ा देश की

कुल जनसंख्या का 0.18 फीसदी है। दरअसल, ये सभी लोग गंभीर

बीमारियों से पीड़ित हैं और अपनी जिंदगी को खुद खत्म करना चाहते

हैं। स्वास्थ्य मंत्री डि जोंग ने इस मामले पर चिंता जताई है। उनका

कहना है कि एक गंभीर मुद्दा है। सरकार को सोचना चाहिए जो लोग

इच्छामृत्यु की मांग कर रहे हैं। वह अपनी जिंदगी से परेशान क्यों हो

गए हैं। इन लोगों को फिर से जीवन का सही अर्थ खोजने और उन्हें

प्रेरित करने की मदद करनी चाहिए। इस पर सरकार को कोई फैसला

लेना होगा। साथ ही ऐसे लोगों की मदद करनी होगी, जिन्होंने जीने की

उम्मीद छोड़ दी है।

दस हजार की इच्छा मृत्यु पर सरकार का गंभीर रुख

नीदरलैंड की अन्य पार्टी की सांसद ने कहा कि वह 75 से अधिक लोगों

के लिए इच्छामृत्यु के लिए एक बिल पेश करेगी, ताकि लोग अपने

जीवन का अंत शांतिपूर्ण और गरिमापूर्ण तरीके से कर सकें। ऐसे में

समझा जा सकता है कि वहां के लोग जिंदगी से किस कदर हार चुके हैं।

इसलिए जरूरी है कि हिम्मत रखी जाए। देश और दुनिया के विभिन्न

भागों में समय समय पर इस मुद्दे पर लगातार बहस चलती आ रही है।

असाध्य और कष्टकर बीमारी से पीड़ित रोगियों के लिए ऐसी

इच्छामृत्यु की वकालत समय समय पर की जाती रही है। लेकिन

चिकित्सा विज्ञान से जुड़े लोग निरंतर जारी शोध के आधार पर

किसी को भी मरने की छूट देने का विरोध इसलिए करते हैं क्योंकि हो

सकता है कि उनके ठीक होने का कोई रास्ता निकट भविष्य में निकल

आये।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat